हर व्यक्ति को जीवन एक उत्साह की तरह जीना चाहिए : शर्मा

हर व्यक्ति को जीवन को एक उत्साह की तरह जीना चाहिए :शर्मा
फाइल फोटो : साभार इंटरनेट

अजमेर. महिला पतंजलि योग समिति राजस्थान की प्रभारी विजयलक्ष्मी शर्मा ने कहा कि नारी शक्ति समाज का मार्ग प्रशस्त करती हैं, इसमें योग की शक्ति को जोड़ दिया जाए तो यह हम सबके लिए विशेष प्रेरणादायी होगा. रविवार को पुष्कर रोड स्थित हनुमान ईश्वर मंदिर परिसर में भारत स्वाभिमान और पतंजलि योग समिति जिला इकाई कि ओर से आयोजित सह योग शिक्षक दीक्षा ओर से सम्मान समारोह में बतौर मुख्य अतिथि के रूप में बोलते हुए शर्मा ने कहा कि नारी, समाज ,परिवार व राष्ट्र का मार्ग प्रशस्त करने का कार्य करती हैं ,ऐसे में नारी शक्ति को योग की आध्यात्मिक शक्ति से जोड़ दिया जाए तो इससे बड़ा पुण्य का कार्य नहीं हो सकता है.

शर्मा ने प्रशिक्षण प्राप्त करने वाले साधकों में 80 फीसदी महिला होने पर इस बात पर जोर दिया. समारोह में भारत स्वाभिमान और पतंजलि योग समिति के जिला संयोजक नेमीचंद तंबोली ने कहा कि प्रत्येक व्यक्ति को जीवन को एक उत्साह की तरह जीना चाहिए. जीवन में उत्साह भाव हमें कर्मरत रहने को प्रेरित करता है. समारोह में नेमीचंद तंबोली ने अपने संबोधन में कहा कि आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में आमजन निरंतर तनाव की गिरफ्त में आता जा रहा है. जिससे वह अनेक शारीरिक और मानसिक बीमारियों से ग्रसित होता जा रहा है. इस तनाव मुक्ति के लिए वर्तमान में योग ही एक महत्वपूर्ण उपाय हैं.

उन्होंने कहा कि जीवन में प्रत्येक कार्य की संपन्नता में सुगमता नहीं होती है, बाधाओं में निरंतर आगे बढ़ते रहना चाहिए और बाधाओं में आगे बढ़ने का हौसला ब्रह्म मुहूर्त में जल्दी उठने और योग करने से प्राप्त हो सकता है. कार्यक्रम के तहत भारत स्वाभिमान ट्रस्ट के सह जिला प्रभारी सुंदर लखवानी व महावीर प्रसाद वैष्णव ने भी अपने विचार व्यक्त किए.

समारोह के तहत 45 दिन का योग प्रशिक्षण प्राप्त करने वाले 26 प्रशिक्षणार्थियों को अतिथियों द्वारा प्रमाण पत्र प्रदान कर दीक्षा दी गई. इसी कड़ी में 32 महिला पुरुषों को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर जिला स्तरीय योग कार्यक्रम में सराहनीय सहयोग पर सम्मानित किया गया.