जाली खबर की इस तरीके से करे पहचान

जाली खबर की इस तरीके से करे पहचान Panchayat Times

न्यू दिल्ली. इन दिनों सोशल मीडिया पर जाली खबर यानी फेक न्यूज तेजी से वायरल हो रही है. कुछ दिन पहले ही अरुण जेटली की बीमार होने की झूठी अफवाह सोशल मीडिया पर धडलें से फैलाई गई तो कभी अमिताभ बच्चन की मौत की खबर.

आम लोग ऐसी अफवाह पर आसानी से विशवास कर लेते हैं. लेकिन हमारी भी ये जवाबदेही बनती है कि किसी को फेक न्यूज भेजने से पहले उस खबर की जांच कर ले. वहीं बीते बुधवार को बिहार के मुजफ्फरपुर जिले में फाइटिंग अगेंस्ट जाली खबर के विषय एक कार्यशाला आयोजित की गई. जहां पर वॉट्सएप प्रतिनिधि रवि गुरिया ने पुलिस अधिकारियों और मीडियाकर्मियों को जाली खबर से संबंधित कई टिप्स दिए.

मोदी की जीत की खुशी में डॉलर्स लुटाए और पाकिस्तानी छापे भारतीय नोट्स : जाली खबर

वॉट्सएप प्रतिनिधि रमा द्विवेदी ने बताया कि जाली खबर की वजह से कई बार कानूनी हालात तक की समस्या पैदा हो जाती है. जब भी कोई व्यक्ति सनसनीखेज खबर सोशल मीडिया पर देखे तो उसकी पड़ताल गंभीरता से करनी चाहिए. गूगल पर हम इसकी पड़ताल कर सकते हैं, कई बार ऐसी खबर सोशल मीडिया पर तेजी से फैलती है,लेकिन टीवी और अखबार में हम खबर को नहीं देखते.

थोड़ी गंभीरता बरती जाए तो जाली खबर की पहचान की जा सकती है. जाली खबर के साथ फेक वीडियो भी तेजी से वायरल हो रहा है. एप के सहारे किसी भी नामचीन चेहरे से कुछ भी बुलवाया जा सकता है. जबकि हकीकत में ऐसा होता नहीं है. इसकी भी पड़ताल करनी चाहिए. वॉट्सएप भी फेक न्यूज की पड़ताल कर रहा है. कोई भी खबर में अगर जरा सा भी संदेह हो तो इस नंबर के जरिए 09825255790 जाली खबर की पड़ताल कर सकते हैं.