राजस्थान में किसानों का कर्ज माफ होने लगा

राजस्थान कृषक ऋण माफी योजना-2019 प्रदेश भर में गुरुवार को शुरू

जयपुर. राज्य सरकार की किसान हित में लागू की गई ऐतिहासिक राजस्थान कृषक ऋण माफी योजना-2019 प्रदेश भर में गुरुवार को शुरू हो गई. उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने राजधानी की सिरसी ग्राम सेवा सहकारी समिति में आयोजित शिविर में पात्र किसानों को ऋण माफी प्रमाण पत्रों का वितरण कर योजना का शुभारम्भ किया. इस मौके पर कृषि मंत्री लालचंद कटारिया, विधायक वेदप्रकाश सोलंकी, रफीक खान, जयपुर जिला प्रमुख मूलचंद मीणा भी मौजूद रहे.

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सचिन पायलट ने कहा कि समूचे प्रदेश में सात फरवरी से नौ फरवरी तक ऋण माफी प्रमाण पत्र वितरण शिविरों का आयोजन किया जा रहा है. हमने अपने घोषणा पत्र में किसानों से ऋण माफी का वायदा किया था, वो हम पूरा करने जा रहे हैं. उन्होंने कहा कि हम कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के सपने को पूरा करेंगे. जो गरीब किसान अपना ऋण नहीं चुका पाए, उनकी मदद हम कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें- गहलोत को राज्य के संसाधनों से दिखानी होगी करामात

सहकारिता रजिस्ट्रार डॉ. नीरज के. पवन ने बताया कि प्रदेश के किसानों को संबल प्रदान करने के लिए लागू की गई राजस्थान कृषक ऋण माफी योजना के अन्तर्गत प्रत्येक जिले की पांच-पांच ग्राम सेवा सहकारी समितियों में शिविरों का आयोजन किया जा रहा है. उन्होंने बताया कि 11 फरवरी से विधानसभा का सत्र प्रारम्भ हो जाने के कारण सत्रावधि के दौरान शिविरों का आयोजन नहीं किया जाएगा.

रजिस्ट्रार ने बताया कि इस बार पात्र किसान की पहचान सुनिश्चित करने तथा उसे पात्रता के अनुसार पूरा लाभ दिलाने के लिए आधार आधारित आवेदन एवं अधिप्रमाणन की पुख्ता एवं पारदर्शी प्रक्रिया अपनाई गई है. यदि किसी किसान को ऋण माफी राशि के संबंध में कोई शिकायत या उससे असहमति है तो वह इस संबंध में ग्राम सेवा सहकारी समिति या बैंक शाखा पर जाकर अपनी असहमति दर्ज करा सकता है, जिसका परिवेदना निवारण समिति दस दिन की अवधि में निस्तारण करेगी.