हाथियों के डर से अध पक्‍के धान की कटनी करने में जुटे ग्रामीण

हाथियों के डर से अध पक्‍के धान की कटनी करने में जुटे ग्रामीण-Panchayat Times

सिमडेगा/बोलबा. इद दिनों जंलगी हाथियों का दहशत पहाड़टोली, आलिंगुड़ एवं पंडरीपानी क्षेत्र में लगातार जारी है. हाथियों का झुंड खेतों में लगे धान का निशाना बना रहे हैं. हाथियों का झुंड खेतों में जाकर फसल का रौंद कर बर्बाद कर रहे हैं. जंगली हाथियों के झुंड ने अब तक लगभग 40 किसानों के 30 एकड़ पर लगे धान की फसल को बर्बाद कर दिया है. ग्रामीणों के अनुसार झुंड में लगभग दो दर्जन हाथी है. जो पिछले एक पखवाड़े से बुडापहार, सरलाकोना, तीरबंध एवं हैथडेरा पर आपना आशियाना बनाए हुआ है. दिन भर जंगलों में रहने के बाद उक्‍त हाथियों का झुंड रात होते ही खेतों में लगे फसल को बर्बाद कर रहे हैं. जिससे दर्जनों किसानों के साल भर की मेहनत पर पानी फिर रहा है. वहीं किसानों को लाखों का नुकसान भी हो रहा है. जंगली हाथियों द्वारा लगातार खेतों में लगे धान की फसल को बर्बाद किए जाने के बाद डर से किसान खेतों में लगे अध पक्‍के धान की फसल को ही काटकर समेटने लगे हैं.

किसान तरसियुस कुल्लू, मारियानुस केरकेट्टा, आमरुस केरकेट्टा, कामिल केरकेट्टा, विलियम कुल्लू, लेब्रतुस कुल्लू, निकोलस टेटे, दोमनिका टेटे, परमेश्वर सिंह, सुदन सिंह, गणपति सिंह, समर सिंह, विजय सिंह, रामचंद्र सिंह, लखन सिंह आदि ने कहा कि पिछले चार सालों से धान के पकने के समय ही हाथियों का झुंड गांव में आकर फसलों को बर्बाद कर रहे हैं, वहीं वन विभाग के कर्मी व अधिकारी इस पर आंख मुंदे हुए है. कहा कि यही स्थिति बनी रही तो आने वाले वर्षों से फसल लगाने के लिए उनके पास बीज भी नहीं रहेंगे. सरकार एवं प्रशासन इसपर ठोस कदम नहीं उठाती है तो हमें रोजी रोटी कमाने के लिए कहीं अन्य जगह पर पलायन करना पड़ेगा.