पूर्वोत्तर में खिला कमल, त्रिपुरा में लाल दुर्ग ध्वस्त

भाजपा राष्ट्रीय परिषद की बैठक आज से शुरू

नई दिल्ली. पूर्वोत्तर भारत के तीन राज्यों त्रिपुरा, नगालैंड और मेघालय विधानसभा चुनावों के नतीजे आ गए हैं. त्रिपुरा में सीपीएम के लाल किले को भेदकर बीजेपी पहली बार दो तिहाई बहुमत के साथ अपने सहयोगी के साथ मिलकर 43 सीटें जीतकर सरकार बनाने जा रही है. नागलैंड में भी बीजेपी अपने गठबंधन सहयोगी एनडीपीपी के साथ मिलकर 30 सीटों पर चुनाव जीतकर बहुमत के करीब पहुंच गई है. मेघालय में सत्तारुढ़ कांग्रेस सबसे बड़े दल के रूप में उभरी है लेकिन सरकार बनाने के लिए उसके पास अभी पर्याप्त संख्या नहीं है. मेघालय में कांग्रेस को 21 सीटें मिली हैं वहीं बीजेपी को दो सीटों पर सफलता मिली है.

नहीं चला मणिक सरकार का जादू :

बीजेपी ने त्रिपुरा में 25 साल से सत्ता में रही भारत की कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी ) यानि सीपीआईएम को बाहर कर दिया है. त्रिपुरा में 60 सीटों में से 59 सीटों पर चुनाव हुआ था जिसमें बीजेपी ने 35 सीटों पर कब्जा जमाया है वहीं उसकी सहयोगी पार्टी इंडीजियस पीपुल्स फ्रंट ऑफ त्रिपुरा ने 8 सीटें जीती हैं. इस चुनाव में सीपीआईएम को मात्र 26 सीटों पर जीत मिली है. कांग्रेस यहां अपना खता भी नहीं खोल पाई है. चुनाव आयोग के अनुसार मत प्रतिशत में भी बीजेपी ने सबको पीछे छोड़ दिया है. यहां पर बीजेपी को 43 प्रतिशत मत मिले हैं वहीं सीपीआईएम को 42.6 और इंडीजियस पीपुल्स फ्रंट ऑफ त्रिपुरा को 7.6 प्रतिशत मत प्राप्त हुआ है.

नगालैंड में बीजेपी अपने गठबंधन के साथ सरकार बनाएगी :

नगालैंड विधानसभा की 60 सीटों में से 59 सीटों पर चुनाव हुआ था. जिसमें से सत्तारुढ़ नागालैंड पीपुल्स फ्रंट पार्टी 27 सीटें मिली हैं. बीजेपी को 11, बीजेपी की सहयोगी पार्टी एनडीपीपी को 15, जनता दल को एक, नेशनल पीपुल्स पार्टी को दो सीटें मिली है.

नगालैंड में विधानसभा की 60 सीटें हैं. राज्य में इस वक्त नागालैंड पीपुल्स फ्रंट पार्टी की सरकार है. नगालैंड विधानसभा की उत्तरी अंगामी द्वितीय विधानसभा सीट पर नेशनलिस्ट डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी (एनडीपीपी) प्रमुख निफो रियो निर्विरोध निर्वाचित हो चुके हैं. रियो सूबे के मुख्यमंत्री भी रह चुके हैं. हाल ही में उन्होंने लोकसभा की सदस्यता से इस्तीफा दिया था.

नागालैंड में इस समय नागालैंड पीपुल्स फ्रंट केटीआर जेलियांग मुख्यमंत्री हैं. साल 2013 के विधानसभा चुनाव में नागालैंड पीपुल्स फ्रंट को 60 में से 38 सीटों पर जीत मिली थी. इस चुनाव में कांग्रेस को 8 सीटों पर जीत मिली थी, 8 सीटों पर निर्दलीय चुनाव जीते थे. बीजेपी को एक सीट पर जबकि एनसीपी को 4 सीटों पर जीत मिली थी.

पीएम मोदी की विकास नीतियों को पूर्वोत्तर के लोगों ने स्वीकार किया: राम माधव

मेघालयम त्रिशंकु विधानसभा :

मेघालय विधानसभा 60 विधानसभा सीटों में से की 59 सीटों के लिए मतदान हुआ था. मेघालय चुनाव के जो परिणाम आए हैं उसके अनुसार सत्तारुढ़ कांग्रेस 21 सीटों पर जीत दर्ज की है. पूर्व लोकसभा अध्यक्ष पीए संगमा के बेटे कोनार्ड संगमा के नेतृत्व वाली नेशनल पीपुल्स पार्टी 19 सीटें, बीजेपी 2, जेडीयू को एक और अन्य को 16 सीटों मिली हैं.

मेघालय विधानसभा की विलियमनगर सीट पर चुनाव इसलिए स्थगित कर दिया गया है क्योंकि राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के उम्मीदवार जोनाथन संगमा के निधन हो गया है. ईस्ट गारो हिल्स जिले के साविलगरे इलाके में 18 फरवरी को हुए एक विस्फोट में संगमा की मौत हो गई थी.