झारखंड | गुमला के सुदूरवर्ती गांव सुगाकाटा में किया गया वन सब्जी महोत्सव का आयोजन, ग्रामीण बोले संसाधनों का अभाव, सांसद सुदर्शन भगत बोले समस्याओं को ससमय किया जायेगा पूरा

झारखंड | गुमला के सुदूरवर्ती गांव सुगाकाटा में किया गया वन सब्जी महोत्सव का आयोजन, ग्रामीण बोले संसाधनों का अभाव, सांसद सुदर्शन भगत बोले समस्याओं को ससमय किया जायेगा पूरा - Panchayat Times

गुमला. जिले के रायडीह प्रखण्ड के सुदूरवर्ती ग्राम सुगाकाटा में कल यानि 5 सितंबर को वन सब्जी महोत्सव का आयोजन किया गया. इस आयोजन में ग्रामीणों ने उत्साह के साथ भाग लेते हुए 50 से ज्यादा वन सब्जियों को एकत्रित किया और उन्हें सुरुचिकर एवं परंपरागत तरीके से पकाया. जैव विविधता आधारित इस परंपरागत आयोजन के मुख्य अतिथि, लोहरदगा के सांसद सुदर्शन भगत थे.

सैकड़ों ग्रामीण रहे उपस्थित

कार्यक्रम में सैकड़ों ग्रामीण उपस्थित रहे साथ ही स्थानीय पंचायत प्रतिनिधि, वनवासी कल्याण आश्रम के अखिल भारतीय ग्राम विकास प्रमुख बिन्देश्वर साहू, गुमला नगर के गणमान्य समाज सेवी उपस्थित रहे.

कार्यक्रम में विशेषकर विभिन्न तरह के स्टाल लगे थे जिन पर तरह तरह की वन सब्जियों को परंपरागत तरीके से पकाया गया था अतिथियों ने स्टाल पर जाकर विभिन्न सब्जियों व उनके लाभ हानि, उन के औषधीय गुण, उनके बनाने की विधि के बारे में ग्रामीणों से समझा और अनेक सब्जियों का स्वाद भी चखा. इस अवसर पर वन सब्जी के औषधीय गुणों के संबंध में वनवासी कल्याण आश्रम द्वारा प्रकाशित एक पुस्तक भी अतिथियों को भेंट दी गई.

कार्यक्रम में विचार मंथन के दौरान ग्रामीणों ने कहा कि परंपरागत तरीके से हम इन सब्जियों का प्रयोग अपने दैनिक जीवन में करते आए हैं और हमारे स्वास्थ्य एवं पोषण का रहस्य इसमें निहित है. ग्रामीणों ने उपस्थित प्रतिनिधिमंडल से यह भी निवेदन किया कि ग्राम सुगाकाटा, समग्र ग्रामीण विकास की नई अवधारणा को जमीन पर उतारने के लिए कटिबद्ध है परंतु उनको सहयोग की आवश्यकता है.

संसाधनों का अभाव एक समस्या

ग्रामीणों ने कहा कि यदि उन्हें पर्याप्त मात्रा में जल संसाधन गांव में उपलब्ध हो तो वह अपनी कृषि आय को दोगुना आसानी से कर सकते हैं. उन्होंने यह कहा कि अगर उन्हें वनोपज प्रसंस्करण हेतु कुछ सहयोग एवं कुछ तकनीक उपलब्ध कराए जाएं तो लाह प्रसंस्करण के द्वारा वह अपनी आजीविका की स्थिति को बहुत ही उत्तम कर सकते हैं.

आवेदन करने के 1 वर्ष के बाद भी उन्हें सामुदायिक वनाधिकार से वंचित

इस दौरान ग्रामीणों ने कहा कि वनाधिकार अधिनियम परंपरागत जनजातीय समाज और आजाद भारत के सरकार के बीच में एक पुल का काम करता है लेकिन यह असंतोष का विषय है कि विगत 1 वर्ष से आवेदन करने के पश्चात भी उन्हें सामुदायिक वनाधिकार से अभी तक वंचित रखा गया है. 

झारखंड | गुमला के सुदूरवर्ती गांव सुगाकाटा में किया गया वन सब्जी महोत्सव का आयोजन, ग्रामीण बोले संसाधनों का अभाव, सांसद सुदर्शन भगत बोले समस्याओं को ससमय किया जायेगा पूरा - Panchayat Times

श्रमदान के माध्यम से एक बोरी बांध भी बनाया

कार्यक्रम के दौरान ग्रामीणों ने सभी अतिथियों के साथ मिलकर गांव के साथ ही बहने वाले प्राकृतिक नाले में श्रमदान के माध्यम से एक बोरी बांध भी बनाया जिससे पानी रोक कर वह लगभग 25 से 30 एकड़ में इस रबी के मौसम में सब्जियों की खेती करेंगे. इस अवसर पर वनवासी कल्याण केंद्र द्वारा ग्रामीणों को मुख्य अतिथि सुदर्शन भगत के हाथों एक डीजल पंप का वितरण भी किया गया ताकि वह सुचारु रुप से सिंचाई हेतु रबी के मौसम में जल उपलब्ध कर सके.

सांसद सुदर्शन भगत ने दिया आश्वासन

आयोजन के अंत में मुख्य अतिथि लोहरदगा सांसद सुदर्शन भगत ने ग्रामीणों को यह सुनिश्चित कराया कि वह उनकी आवश्यकताओं और मांगों को ससमय पूरा करने का संवेदनशील प्रयास करेंगे. साथ ही उन्होंने यह घोषणा की कि वह आज से ग्राम सुगाकांटा को अपने सांसद आदर्श ग्राम के अंतर्गत अपना रहे हैं.