चंबा में सवा घंटे के बीच भूकंप के चार झटकों से लोग सहमे

चंबा में भूकंप के झटके, जान-माल का नुकसान नहीं-Panchayat Times

चंबा. कोरोना महामारी के संक्रमण के चलते खौफ में जी रहे चंबा के लोग शुक्रवार को भूकंप के लगातार चार झटके लगने से सहम गए. भूकंप के ये झटके सवा घंटे के बीच लगे. हालांकि इस दौरान जान-माल के नुकसान की सूचना नहीं है. संवेदनशील जोन पांच में शामिल इस क्षेत्र में भूकंप के बार-बार आने से लोग दहशत में हैं.

मौसम विज्ञान केंद्र शिमला के निदेशक मनमोहन सिंह ने बताया कि शुक्रवार बाद दोपहर एक घंटा 15 मिनट के अंतराल में रियेक्टर स्केल पर 3 से लेकर 4.3 तक की तीव्रता के भूकंप के झटके लगे. 3 की तीव्रता का पहला झटका बाद दोपहर 4ः31 पर लगा.  इसके बाद 5ः11 बजे 3.6 की तीव्रता, 5ः17 बजे 4.3 की तीव्रता और 5ः45 बजे 3 की तीव्रता के झटके महसूस हुए.

 उन्होंने कहा कि चारों बार भूकंप का केंद्र चंबा में ही रहा. पहले दो झटकों की इसकी गहराई जमीन से 5 किलोमीटर व आखिर के दो झटकों की गहराई जमीन से 10 किलोमीटर नीचे थी. भूकंप की तीव्रता कम होने की वजह से जिले में किसी तरह के नुकसान की सूचना नहीं है. इससे पहले 8 सितंबर 2019 को भी चंबा में दो दिन में भूकंप के पांच झटके लगे थे.

गौरतलब है कि हिमाचल प्रदेश भूकंप की दृष्टि से अति संवेदनशील जोन चार व पांच में आता है. पिछले कई सालों से राज्य में भूकंप के झटके लग रहे हैं. हालांकि कोई नुकसान नहीं हुआ है। वर्ष 1905 में कांगड़ा व चंबा जिलों में आए उच्च तीव्रता के भुकंप ने भारी तबाही मचाई थी. भूकंप से उस दौरान 10 हजार लोग मारे गए थे.