कूड़े की ढेर से प्राक्रतिक पार्क तक का सफर

कूड़े के ढेर से दो साल में प्राक्रतिक पार्क तक का सफ़र- कुल्लू-Panchayat Times
साभार-इन्टरनेट

कुल्लू. एक खुला मैदान जो लोग कूड़ा डालने के लिए प्रयोग करते था उसे दो साल के अन्दर एक बेहतरीन प्राक्रतिक पार्क में बदल’ दिया गया. ये सब हुआ है हिमाचल के जिले कुल्लू के गांव बबेली में जहां 1.5 करोड़ की लागत से इस पार्क को तैयार किया गया है.

इसको लेकर वन विभाग ने धन उपलब्ध कराया लेकिन इसको धरातल पे उतारने का काम कुल्लू के उस समय के जिलाधिकारी राकेश कंवर ने जिन्होंने इसके लिए सबसे पहले 40 लाख रुपए की मंजीरी प्रदान की उसके बाद ही यह सब संभव हो पाया.

सबसे पहले इस तरह का पार्क मोहाल गांव में बनाया गया था. जिसका उद्घाटन तत्कालीन मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने 2017 में किया था. इसको बनाने के लिए जो कूड़ा यहां पहले से जमा था, उसको नीचे ही दबाया गया और उसके ऊपर नई मिट्टी डाली गयी. इसमें एक छोटा सा झरना भी बनाया गया है. आज इस पार्क से सालाना 15 लाख रुपये की कमाई हो रही है. जिसमे से 40 प्रतिशत धन इन दो पंचायतो के विकास कार्य के लिए दिया जा रहा है, जिनकी जमीन पार्क बनाने में इस्तेमाल की गयी है. इस कार्य के लिए जिलाधिकारी राकेश कंवर को एक प्रतिष्ठित समाचार पत्र की ओर से सम्मानित किया गया है.