लाहौल के सेब को 20 रूपये प्रति किलो के हिसाब से खरीदेगी सरकार

लाहौल के सेब को 20 रूपये प्रति किलो के हिसाब से खरीदेगी सरकार

शिमला. हिमाचल सरकार लाहौल के सेब को 20 रूपये प्रति किलो के हिसाब से खरीदेगी. सरकार एचपीएमसी के माध्यम से इन सेबों की खरीद करेगी. राज्य सरकार ने यह निर्णय जनजातीय जिला लाहौल-स्पीति में बर्फबारी के दौरान हुए सेब फसल के नुक्सान की भरपाई करने के मदेनजर लिया है. लाहौल के बागवानों की आर्थिकी को देखते हुए सरकार ने सेब खरीदने के लिए लाहौल में एचपीएमसी के सात केंद्र खोलने के भी आदेश दे दिए हैं. बीते सालों में एचपीएमसी लाहौल के सेब को सात रूपये प्रति किलो के हिसाब से खरीदती रही है.

लाहौल में सेब से लदे हजारों पेड़ टूटने और सेब की फसल के नुक्सान होने का मामला जनजातीय विकास मंत्री डा. रामलाल मारकंडा ने प्रदेश सरकार की बीते 22 अक्तूबर को हुई मंत्रीमण्डल की बैठक में उठाया था. उसके बाद ही सरकार ने यह निर्णय लिया. इसके साथ-साथ इस क्षेत्र के लोगों को सरकार ने बीपीएल रेट पर राशन देने का भी निर्णय लिया है. हालांकि यह राशन लाहौल की 28 और स्पीति की 6 पंचायतों को दिए जाने हैं, लेकिन अब सरकार ने सिर्फ लाहौल की 28 पंचायतों को ही देने का निर्णय लिया है. स्पीति के लिए सरकार सिर्फ पशु चारा के लिए 100 फीसदी ट्रांसपोर्ट सब्सीडी देगी.

दरअसल बर्फबारी के दौरान जिले में 84 करोड़ का नुकसान हुआ था. जिसकी रिपोर्ट केंद्र सरकार को भेज दी है. इसके साथ ही जिन बागवानों के सेब के पौधे नष्ट हो गए हैं, उन्हें सरकार अपने आधार पर रूट स्ट्रॉक भी वितरित करेगी.

प्रदेश के जनजातीय विकास मंत्री डा. रामलाल मारकंडा का कहना है कि लाहौल-स्पीति में बर्फबारी के दौरान करोड़ों का नुकसान हुआ, ऐसे क्षेत्रों के लिए सरकार ने बीपीएल रेट पर राशन और स्पीति के लिए पशु चारा पर सौ फीसदी ट्रांसपोर्ट सब्सीडी देने का फैसला किया है.

शेयर करें