गुरुग्राम में अदालत ने गांजा तस्करों को तीन साल की सजा सुनाई

गुरुग्राम. नशे का कारोबार करने वाले दो युवकों को... - Panchayat Times

गुरुग्राम. नशे का कारोबार करने वाले दो युवकों को अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश संदीप दुग्गल की अदालत ने दोषी माना और सोमवार को 3-3 साल की कड़ी सजा सुनाई. दोषियों को सजा के साथ साथ 10-10 हजार जुर्माना भी भरना होगा. जुर्माना का भुगतान नहीं करने की सूरत में उन्हें 3-3 माह की सजा अतिरिक्त भुगतनी होगी.

पुलिस ने किया था 10 किलो गांजा बरामद

मामला 29 जुलाई, 2017 का है. बादशाहपुर थाना पुलिस ने गुप्त सूचना के आधार पर छापामारी करते हुए दो युवकों को 10 किलो गांजा के साथ गिरफ्तार किया था. सरकारी अधिवक्ता जगवीर सहरावत से प्राप्त जानकारी के मुताबिक सेक्टर 62-63 क्षेत्र से होते हुए दो युवक मोटरसाईकिल पर सवार होकर गांव उल्लाहवास जा रहे हैं. दोनों युवकों के पास भारी मात्रा में गांजा था इसकी सूचना पुलिस को मिल गई थी. पुलिस ने टीम का गठन कर दोनों बाइक सवारों को काबू कर लिया था. पुलिस ने उनके कब्जे से 10 किलो गांजा बरामद किया था.

कोर्ट ने महज 200 रुपए की रिश्वत की मांग करने पर एक साल की सजा
प्रतीक चित्र

ये भी पढ़ें- गुरुग्राम में फर्जी जज गिरफ्तार, हाईप्रोफाइल सोसायटी में रहकर करता था ठगी

पुलिस डायरी के मुताबिक दोनों आरोपियों की पहचान पलवल के रहने वाले विक्रम और गांव तिघरा के देवेंद्र के रूप में हुई थी. पुलिस ने एनडीपीएस एक्ट की धारा 20-61-85 के तहत मामला दर्ज कर जेल भेज दिया था. मामले एक साल से ज्यादा समय तक कार्रवाई चली. कार्रवाई के दौरान अदालत ने दोनों आरोपियों को एनडीपीएस एक्ट के तहत सबूत और गवाहों के आधार पर दोषी माना.

तीन साल की सजा और 10 हजार का जुर्माना

अधिवक्ता जगबीर सहरावत के अनुसार अभियोजन पक्ष ने अदालत में जो सबूत और गवाह पेश किए, उनसे आरोपियों पर लगे आरोप सिद्ध होना पाते हुए अदालत ने दोनों आरोपियों को दोषी मानते हुए 3-3 साल की कैद व 10-10 हजार रुपए जुर्माने की सजा सुना दी है. जुर्माने का भुगतान न करने पर दोषियों को 3-3 माह का अतिरिक्त जेल भुगतनी होगी.