जानिए हरियाणा में पंचायत प्रतिनिधियों के लिए लाये गये ‘राईट टू रीकॉल’ के बारे में जिसके तहत अब सरपंचों को तय समय से पहले हटा सकते है ग्रामीण

जानिए हरियाणा में पंचायत प्रतिनिधियों के लिए लाये गये 'राईट टू रीकॉल' के बारे में जिसके तहत अब सरपंचों को तय समय से पहले हटा सकते है ग्रामीण - Panchayat Times
For representational purpose only

नई दिल्ली. हरियाणा की भाजपा-जजपा सरकार ने 6 नवंबर को “हरियाणा पंचायती राज (द्वितीय संशोधन) विधेयक, 2020 पारित कर राज्य में राईट टू रीकॉल, पंचायती चुनावों में महिलाओं का 50 फिसदी आरक्षण के साथ हि बीसी-ए वर्ग के पिछड़ो को भी 8 फिसदी आरक्षण दिया जाना शामिल है.

इस बिल के पास होने के बाद राज्य के उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने बताया कि इस बिल के आने से ग्रामीण क्षेत्रों में विकास कार्यों में अभूतपूर्व बदलाव आएगा. उन्होंने कहा कि सरपंच अब ग्रामीणों की भावना के अनुरूप ही विकास कार्यों को प्राथमिकता देंगे.

उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने हि इस संशोधन विधेयक को सदन में पेश किया था. जिसको हरियाणा विधानसभा ने सर्वसम्मति से पास कर दिया. इस दौरान ग्राम पंचायतों के लिए ‘राइट टू रीकॉल’ विधेयक भी पटल पर रखा गया. इस विधेयक के लागू होने से काम ना करने वाले सरपंचों, ब्लाक समिति सदस्यों व जिला परिषद सदस्यों को कार्यकाल पूरा होने से पहले ही हटाने का अधिकार ग्रामीणों को मिल गया है. 

कैसे हटाए जाएंगे ग्रामीण जन प्रतिनिधि 

डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला के अनुसार सरपंच को हटाने के लिए गांव के 33 प्रतिशत मतदाता अविश्वास लिखित में शिकायत संबंधित अधिकारी को देंगे. यह प्रस्ताव खंड विकास एवं पंचायत अधिकारी (Block Development Officer) अथवा सीईओ (CEO) के पास जाएगा.

इसके बाद ग्राम सभा की बैठक बुलाकर 2 घंटे के लिए चर्चा करवाई जाएगी, बैठक के तुरंत बाद गुप्त मतदान (Secret Voting) करवाया जाएगा और अगर 67 प्रतिशत ग्रामीणों ने सरपंच के खिलाफ मतदान किया तो सरपंच पदमुक्त हो जाएगा. सरपंच चुने जाने के एक साल बाद ही इस नियम के तहत अविश्वास प्रस्ताव लाया जा सकेगा.

https://www.facebook.com/dchautala/videos/720058881934354

चौटाला के अनुसार अगर अविश्वास प्रस्ताव के दौरान सरपंच के विरोध में निर्धारित दो तिहाई मत नहीं डलते हैं तो आने वाले एक साल तक दोबारा अविश्वास प्रस्ताव नहीं लाया जा सकेगा. इस तरह ‘राइट टू रिकॉल’ एक साल में सिर्फ एक बार ही लाया जा सकता है.