पूर्व मुख्यमंत्रियों को आजीवन सुविधाएं वाले मामले की सुनवाई टली

राजस्थान हाईकोर्ट में गुरुवार को पूर्व मुख्यमंत्रियों...- Panchayat Times
फाइल फोटो

जयपुर. राजस्थान हाईकोर्ट में गुरुवार को पूर्व मुख्यमंत्रियों को आजीवन सुविधाएं देने और एक मतदाता का दो जगह नाम दर्ज होने के खिलाफ दायर जनहित याचिकाओं पर सुनवाई टल गई. न्यायमूर्ति मोहम्मद रफीक और न्यायमूर्ति गोवर्धन बाढ़दार की खंडपीठ ने पूर्व मुख्यमंत्रियों के मामले में मिलाप चंद डंडिया और अन्य की जनहित याचिका पर सुनवाई 26 नवंबर तय की. वहीं फर्जी मतदाताओं के मामले में दस्तक एनजीओ की जनहित याचिका पर 25 अक्टूबर को सुनवाई तय की.

ये भी पढ़ें- कांग्रेस का मुख्यमंत्री लोगों के पास जाकर करेगा मन की बात : राहुल गांधी

पूर्व मुख्यमंत्रियों को सुविधाएं देने के मामले में याचिकाकर्ता की ओर से अधिवक्ता विमल चौधरी और अधिवक्ता योगेश टेलर ने प्रार्थना पत्र पेश कर कहा कि समान मामले में सुप्रीम कोर्ट आदेश दे चुका है. ऐसे में उस आदेश को लागू करते हुए याचिका का निस्तारण किया जाए. वहीं राज्य सरकार की ओर से कहा गया कि हाईकोर्ट के समक्ष लंबित प्रकरण दूसरी प्रकृति का है. इस पर अदालत ने मामले की सुनवाई 26 नवंबर तय की. वहीं फर्जी मतदाताओं के मामले में राज्य सरकार व केन्द्र सरकार की ओर से जवाब पेश करने के लिए समय मांगने पर सुनवाई 25 अक्टूबर तक टल गई.