हर्बल पार्क में स्थापित होगी ओपन जिम

हर्बल पार्क में स्थापित होगी ओपन जिम-Panchayat Times

हरियाणा. जींद की डीसी कॉलोनी स्थित हर्बल पार्क में सैर करने वाले लोगों के लिए अच्छी खबर यह है कि अब वह सैर के अलावा हर्बल पार्क में जिम भी कर पाएंगे. जिला प्रशासन की ओर से यहां पर जल्द ही ओपन जिम की व्यवस्था की जाएगी. इस पर लगभग 10 लाख रुपए की राशि खर्च होगी, यहां जिम स्थापित करने और उसके लिए उपकरण खरीदने जैसे कार्यों के लिए डीसी की ओर से एक कमेटी का गठन कर दिया गया है. यह कमेटी एसडीएम वीरेंद्र सहरावत की अध्यक्षता में काम करेगी.

एसडीएम वीरेंद्र सहरावत ने बताया कि डीसी अमित खत्री के मार्गदर्शनमें शीघ्र ही जिम की स्थापना के लिए कार्रवाई शुरू की जा रही है. इस जिम के साथ ही बच्चों के लिए एक झूला भी लगाया जाएगा. उन्होंने बताया कि जब लोग बच्चों के साथ यहां पार्क में घूमने के लिए आएंगे तो वह जिम में जहां विभिन्न उपकरणों के साथ प्रैक्टिस कर सकेंगे वहीं बच्चे झूले पर झूलने का आनंद भी ले सकेंगे. जिम के निर्माण के लिए गठित कमेटी ने अपना काम शुरू कर दिया है.

हर्बल पार्क में स्थापित होगी ओपन जिम-Panchayat Times
हर्बल पार्क प्रतीक चित्र

जिम स्थापना के कार्य पर 9 लाख 90 हजार रुपए की राशि खर्च की जाएगी. इससे जिम के उपकरण आदि खरीदे जाएंगे. यहां जिम में 5-6 मशीनें स्थापित की जाएगी.पार्क के मुहाने पर ही जहां प्रैक्टिस करने के लिए रिंग इत्यादि स्थापित किए गए है. साथ ही जिम स्थापित की जाएगी. एसडीएम ने बताया कि जींद शहर में डीसी कॉलोनी स्थित हर्बल पार्क लोगों की पसंद बनता जा रहा है. यहां वन विभाग की ओर से विभिन्न प्रजातियों के पेड़-पौधे यहां लगाए गए है. सुबह-शाम सैर करने के लिए यह लोगों की पसंदनुमा जगह बन गई है. हजारों की संख्या में यहां नागरिक सुबह-शाम सैर करते हैं.

हर्बल पार्क में होगा दुर्लभ प्रजाति का पौधरोपण

जिला वन अधिकारी रोहताश बिरथल ने बताया कि 14 सितम्बर को हर्बल पार्क में दुर्लभ प्रजाति के औषधीय पौधों का रोपण किया जाएगा. डीसी अमित खत्री और प्रवर पुलिस अधीक्षक डॉ. अरुण सिंह अन्य अधिकारियों के साथ पौधरोपण करेंगे. जिला वन अधिकारी के अनुसार यहां हर्बल पार्क में अब दुर्लभ प्रजाति के पौधे भी रोपित किए जाएंगे.

पुरानी प्रजाति जाल के 2 हजार पौधे किए जा रहे है तैयार

जिला वन अधिकारी ने बताया कि लुप्त होती जाल की पुरानी प्रजाति को बचाने के लिए वन विभाग की नर्सरियों में जाल के 2 हजार पौधे तैयार किए जा रहे हैं. उन्होंने बताया कि जाल एक ऐसा पौधा है जो गहन छाया तो देता ही है. पशु-पक्षियों के लिए यह पौधा पहली पसंद है. अनेक पक्षी इसमें घोसला बनाकर प्रजनन करना पसंद करते है. जिला में अगले वर्ष से जाल के यह पौधे रोपण के लिए तैयार हो जाएंगे. उन्होंने कहा कि जाल प्रजाति के पेड़ लुप्त प्राय: हो गए है. इन्हें जिला में फिर से रोपित करने का कार्यक्रम तैयार किया जा रहा है.