बारिश-बर्फबारी से हिमाचल में बढ़ी ठिठुरन,यातायात प्रभावित

हिमाचल प्रदेश में फिर हुआ मौसम ठंड, 10 जिलों में ओलावृष्टि का अलर्ट जारी Panchayat Times

शिमला. हिमाचल प्रदेश के पर्वतीय इलाकों में बर्फबारी और मैदानों में बारिश की वजह से ठंड का प्रकोप बढ़ गया है. पहाड़ी क्षेत्रों में मार्च के माह में भी लोगों को दिसंबर की तरह ठंड का सामना करना पड़ रहा है. जनजातीय क्षेत्रों में तारा माइनस में पहुंच गया है. लाहौल-स्पीति, किन्नौर, कुल्लू, चंबा, सिरमौर व शिमला जिलों के ऊंचाई वाले इलाकों में रूक-रूक कर हिमपात हो रहा है.

शिमला से सटे पर्यटन स्थलों कुफरी व नारकंडा में हुई हल्की बर्फबारी से यातायात आंशिक तौर पर प्रभावित हुआ है. जिले के ऊपरी क्षेत्र चैपाल उपमंडल का खिड़की बर्फबारी की वजह से पूरी तरह अवरूद्व हो गया है. इसी तरह रोहड़ू के खड़ापत्थर में भी वाहनों की आवाजाही पर असर पड़ा है। पुलिस प्रशासन ने उपरी शिमला की यात्रा करने वाले वाहन चालकों को एहतियात बरतने की सलाह दी है.

किन्नौर के कल्पा में 1.4 सेंटीमीटर बर्फबारी

किन्नौर के कल्पा में 1.4 सेंटीमीटर बर्फबारी हुई है. राजधानी शिमला में शुक्रवार सुबह से तेज हवाओं के साथ वर्षा हो रही है. मौसम विभाग के मुताबिक सुबह साढ़े आठ बजे तक यहां 1.8 मिमी वर्षा हुई है. ऊना में 12, मनाली में 11, पांवटा साहिब में 7 और धर्मशाला में 5 मिलीमीटर वर्षा हुई.
पश्चिमी विक्षोभ के असर से हो रही इस बारिश व बर्फबारी से तापमान में भारी गिरावट दर्ज की गई है. लाहौल-स्पीति जिले के मुख्यालय केलंग में तापमान शून्य से छह डिग्री नीचे चला गया है. इसी तरह किन्नौर के कल्पा में न्यूनतम तापमान -1 डिग्री, मनाली में 1.4 डिग्री, शिमला में 4.6 डिग्री, सियोबाग में 5.5 डिग्री, धर्मशाला में 5.8 डिग्री, भुंतर में 6.5 डिग्री, जुब्बड़हट्टी में 7 डिग्री, पालमपुर व सोलन में 7.5 डिग्री, मंडी में 8.1 डिग्री, सुंदरनगर में 8.3 डिग्री, कांगड़ा में 11 डिग्री, हमीरपुर व नाहन में 11.2 डिग्री, उना में 12.4 डिग्री और बिलासपुर में 12.5 डिग्री सेल्सियस रिकाॅर्ड किया गया है.

अगले 24 घंटों के दौरान भी बारिश व बर्फबारी का अनुमान

मौसम विज्ञान केंद्र शिमला के निदेशक मनमोहन सिंह ने बताया कि अगले 24 घंटों के दौरान भी वर्षा व बर्फबारी जारी रहने का अनुमान है. 8 व 9 मार्च को मौसम साफ रहेगा, लेकिन 10 मार्च से एक बार फिर मैदानों में बारिश व पर्वतीय क्षेत्रों में हिमपात के आसार हैं.