हिमाचल दिवस को मनाने के पीछे का रहस्य

30 छोटे-छोटे रियासतों में बटा हुआ था, इसलिए इस दिन को 'हिमाचल दिवस' के रूप में

शिमला. जिस समय हिमाचल प्रदेश का गठन हुआ था उस वक्त यहां केवल 228 किलोमीटर पक्की सड़कें हुआ करती थी. वहीं अब प्रदेश में पक्के सड़कों का जाल बढ़कर 37 हजार किलोटमीटर से भी अधिक हो गया है. 15 अप्रैल 1948 से पहले हिमाचल 30 छोटे-छोटे रियासतों में बंंटा हुआ था, इसलिए इस दिन को ‘हिमाचल दिवस’ के रूप में मनाया जाता है. जिन्हें मिलाकर ही हिमाचल प्रदेश का गठन किया गया. बहुत कम लोग जानते हैं कि हिमाचल का नाम सत्यदेव बुशहरी ने दिया था, लेकिन पूर्ण राज्य का दर्जा तो 25 जनवरी 1971 को ही मिला.

इस वक्त हिमाचल की 95 फीसदी पंचायतें सड़कों से जुड़ चुकी हैं. हिमाचल निर्माता व प्रदेश के पहले सीएम डॉ. वाईएस परमार का विकास का मूल मंत्र ही सड़कों का निर्माण था. इस बार राज्यस्तरीय हिमाचल दिवस मंडी के रिज मैदान में मनाया जाएगा. जिसकी प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर अध्यक्षता करेंगे.

30 छोटे-छोटे रियासतों में बटा हुआ था, इसलिए इस दिन को 'हिमाचल दिवस' के रूप में
प्रतीक चित्र

अप्रैल 1948 में 27,000 वर्ग कि.मी. में फैली हुई लगभग 30 रियासतों को मिलाकर केंद्र शासित प्रदेश हिमाचल बनाया गया था. 1954 में ‘ग’ श्रेणी की रियासत तबलासपुर को भी हिमाचल में मिला दिया गया. 1966 में पंजाब के पहाड़ी भाग को भी हिमाचल में मिला दिया गया. जिससे हिमाचल का क्षेत्रफल का बढ़कर 55,673 वर्ग कि.मी. हो गया.

ये भी पढ़ें – हिमाचल का सपना : बिलासपुर-लेह रेल लाइन परियोजना

राज्य सरकार द्वारा अधिसूचना के अनुसार राज्य स्तरीय हिमाचल दिवस समारोह के आयोजन में आंशिक बदलाव किया गया है. राज्य स्तरीय हिमाचल दिवस समारोह 15 अप्रैल, 2018 को कांगड़ा जिला के इंदौरा के बजाए अब ऐतिहासिक रिज मैदान शिमला में आयोजित किया जाएगा. राज्य स्तरीय समारोह की अध्यक्षता मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर करेंगे तथा शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज भी समारोह में उपस्थित रहेंगे.

बहुउद्देशीय परियोजनाएं एवं ऊर्जा मंत्री अनिल शर्मा शिमला के बजाए अब कांगड़ा जिला मुख्यालय धर्मशाला में जिला स्तरीय हिमाचल दिवस समारोह की अध्यक्षता करेंगे, जहां हि.प्र. विधानसभा के उपाध्यक्ष हंस राज भी समारोह में उपस्थित रहेंगे. उद्योग मंत्री बिक्रम सिंह किन्नौर जिले के रिकांगपिओ में जिला स्तरीय समारोह की अध्यक्षता करेंगे.

कॉमेंट करें

अपनी टिप्पणी यहाँ लिखें
अपना नाम यहाँ लिखें