हिमाचल सरकार ने जारी की अनलाक-4 की गाइडलाइन, बाहरी राज्यों के लिए नहीं चलेंगी बसें

शिमला. हिमाचल प्रदेश से बाहरी राज्यों के लिए अभी बसें नहीं चलेंगी. अनलॉक-4 में सरकार ने आगामी आदेशों तक बाहरी राज्यों के लिए बसें नहीं चलाने का निर्णय लिया है. हालांकि बाहरी राज्यों के लिए टैक्सियां चल सकती है, लेकिन उन्हें कोविड-19 ई-पास पर पंजीकरण करवाना होगा तथा यदि टैक्सी चालक को वापिस जाना है तो उसे क्वारंटाइन से छूट प्रदान की गई है. प्रदेश सरकार की ओर से राजस्व विभाग ने अनलॉक-4 को लेकर सोमवार को दिशा निर्देश जारी किए हैं.

जारी दिशा निर्देशों के तहत प्रदेश में धार्मिक स्थल भाषा, कला एवं संस्कृति विभाग द्वारा जारी एसओपी के आधार पर खुलेंगे. इसी तरह पयर्टन इकाईयां भी पयर्टन विभाग द्वारा जारी एसओपी के आधार पर खोले जाएंगे. केंद्रीय गाईडलाइन की तर्ज पर प्रदेश में भी स्कूल, कॉलेज व अन्य सभी शिक्षण संस्थान 30 सितंबर तक बंद रहेंगे. बाहरी राज्यों से हिमाचल में प्रवेश करने वालों को कोविड ई-पास सॉफटवेयर के माध्यम से पंजीकरण करवाना अनिवार्य किया गया है.

प्रदेश में रोजाना व सप्ताह में नियमित रूप से आने व जाने वालों यानि उद्योगपतियों, अन्य कारोबारियों, मजदूरों आदि को संबंधित जिला के जिलाधीश के पास इसको लेकर सूचना देनी होगी। सेना के जवान प्रदेश से अपने आधारिक आई कार्ड पर बिना कोविड सॉ टवेयर पर पंजीकरण के आ व जा सकते हैं. अन्य राज्यों से हिमाचल में आने वाले लोगों को स्वास्थ्य व राजस्व विभाग द्वारा जारी दिशा निर्देशों को स ती से पालन करना होगा.

अनलॉक-4 में भी उन राज्यों से आने वाले लोगों को संस्थागत क्वारंटाइन किया जाएगा, जहां पर कोरोना संक्रमण का कहर अधिक है. राज्य में आने वाले सभी एसि पटोमेटिक लोगों को होम क्वारंटाइन किया जाएगा. विदेशों से आने वाले लोगों को भारत सरकार की स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की गाईडलाईन के अनुसार इंस्टीटयूशनल क्वारंटाइन किया जाएगा. सभी कोरोना संक्रमितों व आईएलआई संक्रमितों को इंस्टीटयूशनल क्वारंटाइन में रखा जाएगा. जो व्यक्ति होम क्वारंटाइन का उल्लंघन करते हुए पाया गया, उसे तत्काल इंस्टीटयूशनल क्वारंटाइन में रखा जाएगा. प्रदेश में शिक्षण संस्थानों को क्वारंटाइन सैंटर के रूप में प्रयोग नहीं किया जाएगा. इसके लिए भवनों, होटलों, गेस्ट हाऊस आदि को प्रयोग में लाया जाएगा.

प्रदेश में यदि कोई क्वारंटाइन के दौरान बेहतर सुविधा चाहता है, तो वह जिला प्रशासन से आग्रह कर पेड क्वारंटाइन की सुविधा ले सकता है. प्रदेश में बाहरी राज्यों से लेबर लाने वाले बागवान, उद्योगपतियों, ठेकेदारों आदि को जारी एसओपी के तहत मजदूर लाने होंगे तथा क्वारंटाइन की अवधि पूर्ण होने तथा कोरोना टैस्ट नेगेटिव आने पर वह उनसे काम करवा सकते हैं. प्रदेश के लोग यदि कारोबार, आधिकारिक कार्य, मेडिकल आदि के लिए बाहरी राज्यों में जाते हैं तथा यदि वह 48 घंटे के अंदर प्रदेश में वापिस आ जाते हैं तो उन्हें क्वारंटाइन नहीं किया जाएगा.

अनलॉक-4 में सरकार ने छात्रों व उनके अभिभावकों को राहत प्रदान की है. उन्होंने प्रतियोगी परीक्षा के लिए प्रदेश से बाहर जाने व प्रदेश में आने के लिए कोविड ई-पास सा टवेयर पर पंजीकरण करवाने से छूट प्रदान की गई है.

जारी दिशा निर्देशों के अनुसार छात्रों व उनके अभिभावकों को प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए प्रदेश से बाहर जाने व राज्य में आने की सूरत में उन्हें क्वारंटाइन से छूट प्रदान की गई है, बशर्ते वह 72 घंटे के अंदर प्रदेश में वापिस आ जाएं. इसी तरह उन्हें कोविड ई-पास सॉ टवेयर पर पंजीकरण करवानी की भी आवश्यकता नहीं होगी. छात्रों केा जारी एडमिट कार्ड ही वेलिड डाक्यूमेंट होगा. परीक्षा के लिए प्रदेश में आने वाले विद्यार्थी हिमाचल प्रदेश पयर्टन निगम के होटलों में रूक सकते हैं.