हिमाचल : जरूरतमंद बच्चों को कोरोना के चलते हो रही ऑनलाइन पढ़ाई में ना आये समस्या इसके लिए प्रदेश सरकार ने शुरू किया ‘डिजिटल साथी-बच्चों का सहारा, फोन हमारा’ अभियान, कोई भी दान कर सकता है स्मार्टफोन

हिमाचल : जरूरतमंद बच्चों को कोरोना के चलते हो रही ऑनलाइन पढ़ाई में ना आये समस्या इसके लिए प्रदेश सरकार ने शुरू किया 'डिजिटल साथी-बच्चों का सहारा, फोन हमारा’ अभियान, कोई भी दान कर सकता है स्मार्ट मोबाइल - Panchayat Times
Minister for Education Govind Singh Thakur during launching the Digital Saathi-Bacchon ka Sahara Phone Hamara programme in Shimla Himachal Pradesh

शिमला. प्रदेश के सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले जरूरतमंद बच्चों को कोरोना महामारी के चलते हो रही ऑनलाइन पढ़ाई को देखते हुए स्मार्टफोन देने की योजना ‘डिजिटल साथी-बच्चों का सहारा, फोन हमारा’ अभियान 15 जूलाई को शुरू कर दिया गया है.

शिक्षा मंत्री गोविंद ठाकुर ने सचिवालय से स्मार्ट फोन डोनेट करने की वेबसाइट का शुभारंभ किया. कार्यक्रम में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर और बॉलीवुड अभिनेत्री यामी गौतम वर्चुअल तौर पर जुड़े.

अभी तक मिल चूके है 1,150 स्मार्ट फोन

योजना शुरू होने से पहले ही उद्योगपतियों और बैंकर्स ने शिक्षा विभाग को 1,150 स्मार्ट फोन दे दिए हैं. कोरोना संकट के चलते प्रदेश में मार्च 2020 से बंद चल रहे स्कूलों में ऑनलाइन पढ़ाई करवाई जा रही है.

इस कार्यक्रम के तहत जिन छात्रों के पास स्मार्टफोन नहीं हैं, उन छात्रों की ऑनलाइन पढ़ाई के लिए फोन जुटाने के लिए यह अभियान चलाया गया है. मोबाइल फोन जुटाने के लिए इस तरह का अभियान शुरू करने वाला हिमाचल देश का पहला राज्य है.

कहां दे सकते है फोन दान

इस अभियान के तहत कोई भी व्यक्ति, संस्था, उद्योगपति hpdigitalsaathi.in वेबसाइट पर जाकर बच्चों के लिए स्मार्ट मोबाइल फोन डोनेट कर सकता है. संबंधित व्यक्ति या संस्था की ओर से दिए गए स्मार्ट फोन को वेबसाइट के माध्यम से ट्रैक भी किया जा सकता है.

मोबाइल दान करने की अपील

वहीं जानी-मानी बॉलीवुड अदाकारा यामी गौतम भी देश-विदेश में जरूरतमंद बच्चों की ऑनलाइन पढ़ाई में मदद के लिए मोबाइल दान करने की अपील करेंगी. इसके लिए यामी गौतम ने एक वीडियो भी जारी किया है. सोशल मीडिया पर वीडियो और ऑडियो मैसेज के माध्यम से जरूरतमंद बच्चों को स्मार्ट फोन देने की अपील करेंगी.

योजना को सफल बनाने के लिए एनजीओ और कंपनियों और बैंकों ने शिक्षा विभाग की मदद की है. इस मौके पर सीएम ने गैर सरकारी संस्थाओं, औद्योगिक घरानों के अलावा लोगों से फोन दान करने की अपील की है, ताकि उनका दान किया हुआ फोन किसी बच्चों की पढ़ाई में सहभागी बन सके.

काफी बच्चों की पढाई हो रही थी प्रभावित

कमजोर वर्ग के कई विद्यार्थियों की स्मार्ट फोन न होने के चलते कोरोना के इस दौर मे पढ़ाई प्रभावित हो रही है. इसको देखते हुए समग्र शिक्षा अभियान के राज्य परियोजना कार्यालय ने समाज की सहभागिता से ऐसे विद्यार्थियों के लिए स्मार्टफोन एकत्र करने को योजना शुरू की है.

कार्यक्रम के तहत 80 फीसदी विद्यार्थियों को किया गया है कवर

इस कार्यक्रम के तहत 80 फीसदी विद्यार्थियों को कवर किया गया है. सरकार का प्रयास है कि कार्यक्रम में शत प्रतिशत विद्यार्थियों को सम्मिलित किया जाए. कार्यक्रम के दौरान फोन देने वाले बैंकर्स और उद्योगपतियों को सम्मानित भी किया गया.