हिमाचल : भारतीय किसान संघ ने की प्रदेश को सूखाग्रस्त घोषित करने की मांग, सीएम को भेजा ज्ञापन

हिमाचल : भारतीय किसान संघ ने की प्रदेश को सूखाग्रस्त करने की मांग, सीएम को भेजा ज्ञापन
Source - Internet

शिमला. भारतीय किसान संघ की प्रदेश इकाई ने हिमाचल को सूखाग्रस्त घोषित करने की मांग की है. इसको लेकर मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर और केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर को ज्ञापन भेजा गया है. इसके साथ ही किसानों द्वारा रबी फसल से हुए नुकसान पर राहत देने की मांग भी की गई है.

सामान्य से 60 प्रतिशत कम हुई बारिश

प्रदेश के विभिन्न जिलों में औसतन 1000-1200 मिलीमीटर वर्षा के द्वारा जल पूरा वर्ष भू-भाग को मिलता रहता है, लेकिन वर्ष 2020-21 के दौरान सितंबर, 2020 से मार्च, 2021 तक सामान्य से बहुत कम औसतन 60 प्रतिशत से भी कम वर्षा हुई है. वहीं हिमपात में भी कमी आई है. जिसके कारण प्रदेश में सूखे की स्थिति बन गई है.

रबी फसलों पर हुआ नुकसान

इसका सीधा असर रबी फसलों अपर देखा गया है. भू-जल के रिचार्ज न होने के कारण खड्डें, नाले तथा प्राकृतिक संसाधन भी सूखने लगे हैं. रबी की फसलें जैसे गेहूं, चना, जौ, मटर, आलू तथा चारे की फसलें इत्यादि को भी भारी नुकसान देखने को मिला है.

किसानों ने गेहूं को चारे के रूप में काटना शुरू कर दिया है. एक क्विंटल गेहूं की जगह सिर्फ 20 से 30 किलो गेहूं के उत्पादन का अनुमान लगाया जा रहा है. एक महीने पहले कृषि विभाग द्वारा जारी की गई रिपोर्ट में सूखे का प्रभाव 30 से 40 प्रतिशत आंका जा रहा था. लेकिन अब इसका असर 70 से 80 प्रतिशत तक पहुंच गया है.