हिमाचल खादी बोर्ड के आधे पद खाली, कैसे पूरा होगा गांधी का सपना

कुल्लू पहुंचे खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड के उपाध्यक्ष पुरुषोत्तम गुलेरिया
प्रतीक चित्र

कुल्लू. “खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड की योजनाओं का प्रदेश में सही प्रचार-प्रसार ना होने के कारण लोगों को इसका लाभ नहीं मिल पा रहा है. वहीं, बोर्ड में खाली पदों को भी लंबे समय से नहीं भरा गया है.” ये बातें कुल्लू पहुंचे खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड के उपाध्यक्ष पुरुषोत्तम गुलेरिया ने कही. उन्होंने कहा कि प्रदेश खादी बोर्ड में 160 पद हैं जिसमें लगभग 80 पद अभी भी खाली चल रहे हैं. ऐसे में अधिकारी कैसे कार्यालय का काम कर पाएंगे और वह कैसे बोर्ड की योजनाओं को ग्रामीण स्तर तक पहुंचा पाएंगे ये एक बड़ा सवाल है. उन्होंने कहा कि खादी बोर्ड के कार्यालयों की हालत भी ठीक नहीं है. अब प्रदेश सरकार संग मिलकर खाली पदों को भरा जाएगा और सभी कार्यालयों की हालत को भी दुरुस्त करवाया जाएगा.

कुल्लू पहुंचे खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड के उपाध्यक्ष पुरुषोत्तम गुलेरिया

25 नई यूनिट स्थापित की जाएगी

उपाध्यक्ष ने कहा कि खादी बोर्ड के माध्यम से प्रदेश भर में नई 325 यूनिट स्थापित की जाएंगी. जिसके माध्यम से लगभग 8 करोड़ की सब्सिडी लोगों को वितरित की जाएगी. वहीं, कुल्लू जिला में भी खादी बोर्ड की तरफ से इस साल 25 नई यूनिट स्थापित की जाएगी. ताकि, घाटी के बेरोजगार युवाओं को रोजगार का साधन मिल सके. उन्होंने कहा कि जल्द ही प्रदेश सरकार संग मिलकर खादी कमीशन, दिल्ली के साथ बैठक का आयोजन किया जाएगा और प्रदेश में खादी के विकास के लिए नई योजनाओं का प्रारूप तैयार कर उनसे बजट की मांग की जाएगी.

ये भी पढ़ें- सरानाहुली मेला: पराशर और कमरूनाग में उमड़ेगा आस्था का सैलाब

गुलेरिया ने कहा कि पिछली कांग्रेस सरकार में खादी बोर्ड के बजट में हर साल 25% बजट कटौती का प्रस्ताव पास किया गया था. जिसे अब भाजपा सरकार ने रद्द कर दिया गया. वहीं, अधिकारियों को भी निर्देश दिए गए हैं कि वह ज्यादा से ज्यादा समय फील्ड में जाएं और ग्रामीण युवाओं को खादी बोर्ड की योजनाओं से अवगत करवाएं. ताकि वह योजना के माध्यम से खुद और दूसरे लोगों को भी रोजगार देने में सक्षम हो सकें.