एक हिमाचली मजदूर जो बन गया खली-महाबली

शिमला. द ग्रेट खली के नाम से मशहूर भारतीय मूल के डब्ल्यूडब्ल्यूई रेसलर का असली नाम दिलीप सिंह राणा है. वो रेसलिंग में आने से पहले पंजाब पुलिस में काम करते थे. खली का सीना 56 इंची नहीं, बल्कि 63 इंची है. ये भारतीय रिकॉर्ड है. हिमाचल प्रदेश के जिला सिरमौर में एक छोटे से गांव घिरईना में मजदूरी करने वाला इंसान पूरी दुनिया में मशहूर कैसे हो गया, कहानी बेहद दिलचस्प है.

द ग्रेट खली खाने-पीने के मामले में बाकी के पहलवानों से बिल्कुल उलट हैं. विशुद्ध शाकाहारी हैं. वो नॉन-वेज से दूर रहते हैं तो शराब को हाथ तक नहीं लगाते. डोपिंग के मामले में खली का रिकॉर्ड बेहद साफ-सुथरा है. कभी तंबाकू तक का इस्तेमाल नहीं किया इस महाबली ने.

खली रेसलिंग की दुनिया के सबसे लंबे खिलाड़ी हैं. खली की लंबाई 7 फुट 1 इंच है. उनकी ये लंबाई उन्हें बाकियों पर भारी रखती है. खली का वजन 157 किलो है, जो लगभग 347 पाउंड के बराबर है. खली भले ही इंटरनेशनल स्टार हैं, लेकिन वे कभी पत्थर तोड़ने का काम करते थे. खली के गांव घिरईना की औरतें उनसे भारी भरकम काम करवाती थीं. इसी दौरान खली पर पुलिस ऑफिसर भुल्लर की निगाह पड़ी और वो पंजाब पुलिस में भर्ती हुए. खली सामान्य शरीर के मालिक नहीं हैं, न ही वे पूरी तरह से स्वस्थ हैं. वो बचपन से ही एक्रोमेगली नाम की बीमारी से पीड़ित हैं, जिसकी वजह से उनका शरीर असाधारण तरीके से भीमकाय है. इसी रोग की वजह से उनका चेहरा भी कुछ ‘अजीब’ दिखता है.

खली पंजाब पुलिस में रहते हुए बॉडीबिल्डिंग करते थे. वे सन् 1997 और 1998 में मिस्टर इंडिया रह चुके हैं. पंजाब पुलिस के तत्कालीन एडीजीपी एन एस भुल्लर ने खली को रेसलिंग में जाने से मना किया था, साथ ही वो खली के विदेश जाने के फैसले से भी सहमत नहीं थे. खली ने बताया था कि कैरियर की शुरुआत करने में उन्हें पैसों की काफी दिक्कत हुई थी और आज वह रेसलिंग की दुनिया में वो मशहूर हैं. दिलीप सिंह राणा उर्फ द ग्रेट खली ने प्रो रेसलिंग में पहली बार 7 अक्टूबर 2000 में कदम रखा था. वो शुरुआती सालों में दिलीप सिंह राणा उर्फ द ग्रेट खली नहीं, बल्कि जायंट सिंह नाम से रिंग में उतरते थे. इसका मतलब होता है भीमकाय शरीर का मालिक..

खली भले ही अमेरिका जाकर बेहद अमीर हो गए, लेकिन वो अपने गांव को नहीं भूल पाए. द ग्रेट खली ने अपने गांव के विकास में काफी पैसा दान दिया. बचपन में अभाव की जिन्दगी जीने तथा कुछ दिन के लिए ही स्कूल का मुंह देखने वाले दिलीप सिंह राणा को लोग दलबू कहकर पुकारते थे.

द ग्रेट खली रेसलिंग की दुनिया के सबसे खतरनाक खिलाड़ी माने जाने वाले अंटरटेकर को सिर्फ मुक्के बरसाकर ही बेहोशी की हालत में लाकर जीत दर्ज कर चुके हैं. अंडरटेकर के आगे बड़े-बड़े सूरमा पानी मांगा करते थे, पर खली के आने के बाद अंडरटेकर को लगातार हार झेलनी पड़ी थी. इन्होंने सबको पटकनी दी है.

खली सिर्फ भारतीय टीवी चैनलों पर ही नजर नहीं आते, बल्कि उन्होंने बॉलीवुड के साथ ही हॉलीवुड में काम कर चुके हैं. खली की प्रतिभा से भारत के तत्कालीन राष्ट्रपति डॉ अब्दुल कलाम बेहद प्रभावित हुए थे. उन्होंने सन 2005 में खली को राष्ट्रपति भवन बुलाकर उनसे मुलाकात भी की थी.

खली को सन 2012 में ऑपरेशन से गुजरना पड़ा. इसकी वजह से उन्हें प्रोफेशनल रेसलिंग से संन्यास लेना पड़ा. इस बीच वो मनोरंजन की दुनिया में बने रहे. प्रोफेशनल रेसलिंग से संन्यास लेने के बाद अब खली पत्नी हरमिंदर कौर के साथ इंडिया में खूबसूरत जिंदगी जी रहे हैं.