पर्यटकों को लिए खुली हिमाचल की सीमाएं, ईको टूरिज्म पॉलिसी के जरिये ग्रामीण व दूरदराज के क्षेत्रों में वन्य पर्यटन खोलने का प्रयास

पर्यटकों को लिए खुली हिमाचल की सीमाएं, ईको टूरिज्म पॉलिसी के जरिये ग्रामीण व दूरदराज के क्षेत्रों में वन्य पर्यटन खोलने का प्रयास - Panchayat Times
Himachal Pradesh Tourism

शिमला. कोरोना महामारी के बीच लंबे अंतराल के बाद बुधवार 16 सितंबर को हिमाचल प्रदेश की सीमाएं देश के हर नागरिक के लिए खुल गई है. प्रदेश में आने के लिए किसी भी व्यक्ति को अब कोविड-19 ई-पास सॉफ्टवेयर में पंजीकरण नहीं करवाना होगा.

न कोविड की निगेटिव रिपोर्ट लानी होगी और न होटलों में एडवांस बुकिंग करवानी होगी

पर्यटकों को न कोविड की निगेटिव रिपोर्ट लानी होगी और न होटलों में एडवांस बुकिंग करवानी होगी. बाहर से आने वाले क्वारंटीन भी नहीं होंगे. मंगलवार को जयराम कैबिनेट की बैठक में यह बहुप्रतीक्षित फैसला लिया गया था.

यदि कोरोना के लक्षण दिखें तो उन्हें बॉर्डर पर ही रोक दिया जाएगा

बैठक में यह भी फैसला लिया कि बाहर से आने वालों में यदि कोरोना के लक्षण दिखें तो उन्हें बॉर्डर पर ही रोक दिया जाएगा. उनका टेस्ट लेने पर जरूरत पड़ी तो अस्पताल में भर्ती किया जाएगा. वहीं अभी सरकार ने अंतरराज्यीय बसों के संचालन पर फैसला नहीं लिया है.

शराब बार खोलने की मंजूरी

कैबिनेट ने शराब बार खोलने की मंजूरी दे दी है. राज्य कर एवं आबकारी विभाग की ओर से इस संबंध में आदेश जारी कर दिए हैं. इसके लिए एसओपी भी बनाया गया है, जिसका सख्ती से पालन करना होगा. इनमें मास्क पहनकर ही सर्विस देने से लेकर दो टेबल के बीच उचित दूरी, कटलरी को धोने और साफ-सफाई और सैनिटाइजेशन के निर्देश दिए हैं.

100 बेड वाले अस्पतालों में नर्सिंग कोर्स होंगे

मंत्रिमंडल ने ईको टूरिज्म और नर्सिंग पॉलिसी को भी मंजूरी दी. ईको टूरिज्म पॉलिसी के जरिये जहां रोजगार के साथ-साथ ग्रामीण व दूरदराज के क्षेत्रों को वन्य पर्यटन के लिए खोलने का प्रयास किया गया है. वहीं नर्सिंग पॉलिसी में सौ बेड वाले अस्पतालों में नर्सिंग कोर्स शुरू करने को मंजूरी दी.