हिमाचल के बंदर अब नहीं खा पाएंगे मिठाइयां और ब्रेड-मक्खन

हिमाचल के बंदर अब नहीं खा पाएंगे मिठाइयां और ब्रेड-मक्खन

शिमला. राज्य सरकार ने बंदरों की फूड हैबिट बदलने की रणनीति तैयार की है. इसके तहत खाद्य पदार्थों के टेस्ट से ध्यान हटाकर बंदरों को घास-पत्तियां खाने के लिए प्रेरित किया जाएगा. जाहिर है कि जंगलों से शहरों और ग्रामीण क्षेत्रों में आतंक मचा रहे बंदर खाद्य पदार्थों खासकर मिठाइयों, ब्रेड-मक्खन और दाल-रोटी खाने का आदी बन चुके हैं. यही कारण है कि जब बंदरों को शहरों और कस्बों से पकड़कर जंगलों में छोड़ा जाता है तब वह वापस लौट आते हैं. लिहाजा इस जटिल समस्या से निजात पाने के लिए प्रदेश सरकार ने बंदरों की फूड हैबिट बदलने का फैसला लिया है.

राज्य सरकार ने टुटीकंडी में दो मंकी होल्डिंग एरिया का निर्माण किया है. बंदरों को पकड़ कर होल्डिंग एरिया में रखा जाएगा. इसी चार दीवारी के भीतर बंदरों की फूड हैबिट बदली जाएगी. प्रदेश सरकार राज्य भर में इस प्रकार के मंकी होल्डिंग एरिया का निर्माण करेगी.

यह भी पढ़ें: हिमाचल में शुरू हुई बंदरों की नसबंदी, अब बचेंगे खेत और बागान

हिमाचल प्रदेश में बंदरों के बढ़ते प्रकोप और उनके द्वारा फसलों को पहुंच रहे नुकसान से राहत दिलाने के लिए तीन साल पहले प्रदेश सरकार ने चार वानर वाटिका बनाने की योजना तैयार की थी. जिसमें से दो वाटिकाओं का निर्माण किय गया था. इस योजना में भी सरकार ने वानर वाटिकाएं स्थापित कर बंदरों को फ्रूट हैबिट की तरफ प्रेरित करना था लेकिन यह मिशन सफल नहीं हो पाया. इसके पीछे बड़ा कारण वानर वाटिकाओं का खुला क्षेत्र होना था. इसी कारण अब मंकी होल्डिंग एरिया सेंटर चार दीवारी के भीतर बनाए जा रहे हैं.

इसी पर आधारित हिमाचल प्रदेश वन विभाग के वन्य प्राणी प्रभाग ने हिमालयन फारेस्टरी रिसर्च इंस्टीच्यूट शिमला में दूसरी मानव-वानर संघर्ष पर कार्यशाल का आयोजन किया. इस दौरान वन मंत्री गोविंद ठाकुर ने कहा कि विभाग को इस दिशा में ओर अधिक कार्य करने की आवश्यकता है, जिससे साधारण लोगों को इस का लाभ मिल सके. अतिरिक्त प्रधान सचिव वन तरुण कपूर ने भी प्रभाग द्वारा किए नसबंदी पर कहा की यदि यह कार्य न किया होता तो अभी तक प्रदेश में वानरों की संख्या छह लाख तक पहुंच गई होती. प्रधान मुख्य अरण्यपाल वन्य प्राणी डा. आरसी कंग ने भी वन्य प्राणी प्रभाग द्वारा वानरों की इस समस्या को दो हिस्सों शहरी एवं ग्रामीण में बांटने का सुझाव दिया है.