एचपीसीए ने संभाला मंडी के पड्डल मैदान की देखरेख का जिम्मा

मंडी. हिमाचल प्रदेश में सबसे पहले रणजी ट्राफी और देवधर ट्रॉफी के मैच करवाने वाले ऐतिहासिक पड्डल मैदान की हरियाली अब एक बार फिर वापस लौटने वाली है. हिमाचल प्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन ने मंडी के पड्डल मैदान की देखरेख का जिम्मा संभाल लिया है. इस पर एचपीसीए की ओर से करीब डेढ करोड़ रुपए की राशि खर्च की जानी है. जिससे इसके रखरखाव के उपकरण लाए जाएंगे.

वहीं पर मैदान पर विदेशी घास उगाई जाएगी. जिससे यह मैदान सारा साल हराभरा रहेगा. एचपीसीए की ओर से पड्डल मैदान में महज क्रिकेट ही नहीं बल्कि हॉकी और फुटबॉल जैसे खेलों को भी प्रोत्साहित किया जाएगा. जिसके चलते मैदान में क्रिकेट की पिच को नए सिरे से बनाया जाएगा.

रजनी की अपील, जमीनी स्तर पर कार्य करें कांग्रेस कार्यकर्ता

जिससे हॉकी और फुटबॉल के मैदान के लिए भी जगह रहे. एचपीसीए जिला मंडी के अध्यक्ष अजय राणा ने कहा कि पड्डल मैदान में क्रिकेट के अलावा हाकी और फुटबॉल की गेम्स भी बदस्तूर जारी रहे. इसके लिए क्रिकेट की पिच में थोड़ा बदलाव किया जा रहा है. जो इन दोनों की फील्ड से बाहर की जाएगी. इसके लिए एचपीसीए के पिच क्यूरेटर पड्डल का दौरा करके लौट गए हैं. उनकी रिपोर्ट के बाद पिच और विदेशी घास लगाने का कार्य शुरू कर दिया जाएगा.

उन्होंने कहा कि पड्डल मैदान को समतल करने और हरियाली रोपने केलिए एक महीने का समय चाहिए. इसके बाद इस पर कोई भी खेल शुरू किए जा सकते हैं. इससे घास को कोई फर्क नहीं पड़ेगा.

18 साल बाद शुरू होंगे रणजी मैच

हिमाचल में सबसे पहले रणजी और देवधर ट्राफी के मैच करवाने वाले पड्डल मैदान में सन 2000 के बाद से कोई भी रणजी मैच नहीं हो पाया है. मगर अब ऊना और बिलासपुर के बाद एचपीसीए मंडी के पड्डल मैदान की देखरेख का जिम्मा संभालते हुए क्रिकेट, हॉकी और फुटबाल के लिए इसे तैयार करने जा रहा है.

अजय राणा ने बताया कि मंडी में इस साल रणजी ट्राफी मैच करवाए जाएंगे. जिसके लिए मैदान तैयार किया जाएगा. उन्होंने बताया कि खेल मंत्री गोबिंद ठाकुर और ऊर्जा मंत्री अनिल शर्मा से भी इस बारे में बातचीत हो चुकी है. उन्होंने इसको लेकर उत्साह दिखाया है. अब लोगों को एक अच्छा मैदान देखने को मिलेगा.

इसके अलावा पड्डल मैदान में सिथेंटिक प्रैक्टिस पिच और केच भी बनेंगे. जिससे खिलाड़ी नेट प्रेक्टिस आसानी से कर सकें. वहीं पर कई खेल प्रतिभाओं को उभरने का भी मौका मिलेगा उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर का भी खेलों के प्रति सकारात्मक रवैया है.

वीरभद्र सरकार का खेलों के प्रति था विध्वंसक नजरिया

अजय राणा ने कहा कि जहां जय राम ठाकुर का खेलों के प्रति रवैया सहयोगात्मक है. वहीं पर पूर्व की वीरभद्र सरकार का रवैया खेलों के प्रति विध्यवंसक रहा है. एचपीसीए के स्टेडियम की तालाबंदी करने के अलावा खेल संघों को परेशान किया गया. इस अवसर पर मंडी के रणजी स्टार खिलाड़ी शक्ति सिंह, हाकी संघ के राजा सिंह, जिला भाजपा अध्यक्ष रणवीर सिंह और अन्य लोग मौजूद थे.