एमडी का कोर्स करने वाले डाॅक्टरों का भविष्य अधर में लटका

एमडी का कोर्स करने वाले डाॅक्टरों का भविष्य अधर में लटका -Panchayat Times
प्रतीक चित्र

सोलन. सोलन अस्पताल में मानक पूरे न होने की वजह से डीएनबी के तहत एमडी के समक्ष कोर्स करने वाले डाॅक्टरों का भविष्य अधर में लटक गया है. क्योंकि ट्रेनी डाॅक्टरों को शिक्षा दे रहे डाॅक्टर यहां से ट्रांसफर हो गए है और नए डाॅक्टर को नियुक्त नहीं किया गया है.

यही कारण है कि ट्रेनी डाॅक्टरों की शिक्षा बीच में अधूरी रह गई है. यह डाॅक्टर जहां एक और अस्पताल में डाॅक्टरों की कमी को पूरा करते थे और रोगियों का उचित ईलाज भी करते थे लेकिन अब यह डाॅक्टर अपने भविष्य को लेकर बेहद चिंतित दिखाई दे रहे हैं और उन्होंने गुहार लगाई है कि प्रदेश सरकार जल्द डाॅक्टरों की नियुक्ति करें ताकि उनके भविष्य से खिलवाड़ न हों.

रोष प्रकट करते हुए डीएनबी से एमडी समक्ष कोर्स कर रहे सोलन में तैनात राकेश कुमार डाॅक्टर ने कहा कि सोलन अस्पताल में दो और जिला मंडी में चार चिकित्सक अपनी सेवाएं भी दे रहे हैं. कोर्स भी कर रहे है लेकिन अब वरिष्ठ डाॅक्टर न होने की वजह से वह अपना कोर्स नहीं कर पा रहे है. जिसकी वजह से डीएनबी को जो मानक चाहिए वह प्रदेश सरकार नहीं दे पा रही है. यही वजह है कि डीएनबी और डाॅक्टरों को उच्च शिक्षा के लिए  हिमाचल नहीं भेज रही है.
जिसका असर उन पर तो हो ही रहा है साथ में ईलाज करवाने वाले रोगियों पर भी इसका निकट भविष्य में दुष्प्रभाव पड़ने वाला है. क्योंकि प्रदेश सराकर के पास डाॅक्टर उपलब्ध नहीं है जो डाॅक्टरों उच्च शिक्षा के लिए यहां आए थे. उनके मानक पूरे नहीं हो रहे. इसलिए वह अपनी सेवाएं नहीं दे पाएंगे और न ही और डाॅक्टर यहां आएंगे. इसलिए उन्होंने प्रदेश सरकार से आग्रह किया है कि वह चिकित्सक जल्द से जल्द उपलब्ध करवाएं.
आप को बता दें कि डीएनबी से छह डाॅक्टर पहले ही मंडी टांडा और सोलन में सेवाएं दे रहे है हर वर्ष इसमें छह डाॅक्टर डीएनबी के माध्यम से प्रदेश को मिलने है जो अपनी उच्च शिक्षा करने प्रदेश में आएंगे. अगर डीएनबी के मानक ही पूरे नहीं होंगे. शिक्षा ग्रहण करने आए चिकित्सको को केवल सरकार स्टाई फंड उपलब्ध करवाती है जो डाॅक्टरों की कमी को पूरा करते है लेकिन प्रदेश सरकार उन्हें सुविधाएं उपलब्ध नहीं करवा पा रही तो निकट भविष्य में फिर से डाॅक्टरों की कमी से जूझना पड़ सकता है.