लाॅकअप मर्डर केस में 26 तक बढ़ी न्यायिक हिरासत

लाॅकअप मर्डर केस में 26 तक बढ़ी न्यायिक हिरासत-Panchayat Times
प्रतीक चित्र

शिमला. गुड़िया दुष्कर्म और हत्याकांड से जुड़े सूरज लाॅकअप मर्डर केस के आरोपियों को पूर्व आईजी एच जहूर जैदी और पूर्व एसपी डीडब्लयू नेगी सहित नौ पुलिस वालों को, शुक्रवार को न्यायिक हिरासत पूरी होने पर सीबीआई की अदालत में पेश किया गया. अदालत में शुक्रवार को पहली बार आरोपी एसएआईटी की पैरवी करने के वकील पेश हुए.

पूर्व डीएसपी मनोज जोशी को छोड़कर अन्य आठ आरोपियों की तरफ से कुल चार वकीलों ने अदालत में हाजिरी भरी. इनमें पूर्व आईजी जहूर जैदी की ओर से अधिवक्ता मनोज पाठक, पूर्व एसपी डीडब्लयू नेगी, पूर्व एसआई और पूर्व कांस्टेबल रूफीक मोहम्मद की तरफ से अधिवक्ता नरेश्वर चंदेल, पूर्व एएसआई दीपराम की ओर से अधिवक्ता अश्वनी धीमान और पूर्व कांस्टेबल मोहन लाल व रंजीत की ओर से अधिवक्ता रवि तांटा अदालत में पेश हुए.

इसके बाद अदालत ने आरोपियों की न्यायिक हिरासत बढ़ाते हुए मामले की अगली सुनवाई 26 दिसम्बर को तय की है. समझा जाता है कि अगली सुनवाई के अनुसार पूर्व डीएसपी मनोज जोशी की तरफ से भी अधिवक्ता अदालत में पेश हो सकते हैं.

इससे पहले अदालत के बार-बार आग्रह करने पर भी आरोपियों की पैरवी करने के लिए कोई वकील आगे नहीं आ रहा था. इस पर न्यायाधीश ने नाखुशी जताते हुए आरोपियों को जल्द वकील का इंतजाम करने के भी निर्देश दिए थे. दरअसल वकीलों का इंतजाम नहीं होने पर इस मामले में ट्रायल शुरू नहीं हो पा रहा था. सभी आरोपियों के खिलाफ जांच एजेंसी सीबीआई अदालत में चालान पेश कर चुकी है.

याद रहे कि पूर्व आईजी जैदी और पूर्व एसपी डीडब्लयू नेगी की जमानत की अर्जियां अदालतों में लंबित हैं. प्रदेश हाईकोर्ट में डीडब्लयू नेगी की जमानत याचिका पर सुनवाई 10 जनवरी 2019 को होनी है। हाईकोर्ट की ओर से जैदी की जमानत याचिका खारिज की जा चुकी है.

उल्लेखनीय है कि गुड़िया मामले में हिमाचल पुलिस की एसआईटी द्वारा गिरफ्तार किए गए एक आरोपी सूरज की बीते वर्ष जुलाई के महीने में कोटखाई थाने के लॉकअप में मौत हो गई थी. तत्कालीन आईजी जहूर जैदी के नेतृत्व वाली एसआईटी पर सूरज की सुनियोजित तरीके से हत्या करने का आरोप लगा.

हाईकोर्ट के आदेश पर सीबीआई ने मामले की जांच शुरू की और 29 अगस्त 2017 को पूर्व आईजी जहूर जैद्दी सहित आठ पुलिस वालों को गिरफ्तार किया. इसके बाद 16 नवम्बर 2017 को शिमला के पूर्व एसपी डीडब्ल्यू नेगी को गिरफ्तार किया गया था.