उज्जवला एवं सौभाग्य योजना के नाम पर खाली गाड़ियों को दिखा दी हरी झंडी

मंडी. केंद्र सरकार के ग्राम स्वराज अभियान के तहत शनिवार को मंडी के ऐतिहासिक सेरी मंच से प्रधानमंत्री सहज बिजली हर घर योजना के अंतर्गत उजाला एवं सौभाग्य योजना का शुभारंभ किया गया. इसके लिए दो सजी सजाई वैन मंच के सामने खड़ी कर दी गई. जिन्हें बहुद्देशीय परियोजनाएं, ऊर्जा एवं गैर पारंपरिक ऊर्जा स्रोत मंत्री अनिल शर्मा की ओर से हरी झंडी दिखाकर रवाना भी किया गया.

गौर करने वाली बात तो यह थी कि दिखावे के लिए विभाग की ओर से इन दो मोबाइल वैन को रवाना करने के लिए इतना तामझाम किया गया, लेकिन ये दोनों ही वैन खाली थी. इनमें एक भी बल्व मौजूद नहीं था. बिना किसी तैयारी के और जल्दबाजी में शुरू की गई इस योजना के लिए विभाग के पास बांटने के लिए बल्व ही मौजूद नहीं हैं.

हालांकि, यह अभियान आगामी माह पांच मई तक जारी रहेगा. इस योजना के तहत प्रदेश के 93 गावों को लिया गया है. जहां ये बल्व रियायती दरों पर वितरित किए जाने हैं. मंडी जिला के 27 गावों में इस योजना के तहत यह सुविधा प्रदान की जाएगी. वहीं इन गांवों में शेष बचे सभी घरों को बिजली का कनक्शन दिया जाएगा. इस योजना के तहत बीपीएल परिवारों को मुफत तथा अन्य को 500 रूपए 10 आसान किश्तों में भुगतान करना होगा.

इधर, कंपनी के प्रतिनिधि सागर का कहना है कि इस योजना को आज से शुरू कर दिया है. मगर छुट्टी होने की वजह से स्टोर से बल्व नहीं ला पाए. वहीं पर हिमाचल प्रदेश राज्य विद्युत बोर्ड के अधिक्षण अभियंता ऐके खनुटिया का कहना है कि पहले जागरूकता फैलाई जाएगी, उसके बाद बल्व वितरित किए जाएंगे. अब सवाल उठता है कि अगर ऐसा ही करना था तो यह तमाशा करने की क्या जरूरत थी. यह भी कोई पता नहीं है कि वे खाली गाडिय़ां कहां गई और किस तरह से लोगों में जागरूकता फैलाएगी.

ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्रों का होगा विद्युतीकरण

इस मौके पर ऊर्जा मंत्री अनिल शर्मा ने कहा कि योजना के अंतर्गत एलईडी बल्ब वितरित करने के साथ-साथ हर घर को बिजली का कनेक्शन उपलब्ध करवाया जाना है. यह अभियान 5 मई तक जारी रहेगा. उन्होंने कहा कि माननीय प्रधानमंत्री की यह बहुत अच्छी पहल है, जिसके अंतर्गत सौभाग्य नामक योजना ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों के सभी घरों का विद्युतीकरण सुनिश्चित करने के लिए बनाई गई है.

इस योजना के तहत पूरे भारतवर्ष में कोई भी घर बिजली के बगैर न रहे, इसलिए केन्द्र सरकार के द्वारा चलाए गए उजाला योजना के अन्तर्गत प्रदेश में चुने हुए 93 गावों में जहां रियायती दरों पर एलईडी बल्ब वितरित किए जाएंगे, वहीं इन गांवों में शेष बचे सभी घरों को बिजली का कनेक्शन दिया जाएगा. भारत सरकार ने इस योजना के लिए 85 प्रतिशत की अनुदान राशि दी जाएगी तथा ग्रामीण विद्युतीकरण निगम को इस योजना को पूर्ण करने के लिए नोडल एजेंसी बनाया गया है.

इस मौके पर मुख्य अभियंता विद्युत पीएल मासूम, अधिक्षण अभियंता ऐके खनुटिया, अधिशासी अभियंता मनोज पूरी, एसडीएम सदर मदन चौहान, अधिशासी अभियंता लोनिवि प्रदीप ठाकुर, एनर्जी एफिशियंसी सर्विसिज लिमिटिड के पदाधिकारी सहित नारायण सिंह गुलेरिया, पुष्पराज कात्यायन, हिमांशु शर्मा, धर्मपाल ठाकुर, सरीता हांडा, समस्त नगर पार्षद व अन्य गणमान्य लोग उपस्थित रह