मध्यप्रदेश : विधायकों को आज विधानसभा में उपस्थित रहने के निर्देश, दोनों दलों ने जारी किया व्हिप

मध्यप्रदेश : विधायकों को आज विधानसभा में उपस्थित रहने के निर्देश, दोनों दलों ने जारी किया व्हिप-Panchayat Times
साभार इंटरनेट

भोपाल. मध्यप्रदेश में सियासी उठापटक के बीच अल्पमत के संकट से जूझ रही कमलनाथ सरकार फ्लोर टेस्ट होना तय हो गया है. सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के अनुसार शुक्रवार को शाम पांच बजे तक राज्य सरकार को फ्लोर टेस्ट करना है. इसके लिए प्रदेश के दोनों ही प्रमुख दलों कांग्रेस और भाजपा ने गुरुवार को देर रात व्हिप जारी कर अपने विधायकों को शुक्रवार को विधानसभा में उपस्थित रहने के निर्देश जारी कर दिये हैं.

कांग्रेस ने अपने विधायकों को व्हिप जारी कर लिखा है कि विधानसभा का बजट सत्र शुरू होने से पहले भी व्हिप जारी कर सभी विधायकों को 16 मार्च से 13 अप्रैल तक भोपाल में उपस्थित रहने व सदन की कार्यवाही में मौजूद रहने को कहा था. एक बार फिर विधायकों को 20 मार्च को सदन में होने वाले फ्लोर टेस्ट में अनिवार्यत: उपस्थित रहने और सरकार के पक्ष में मतदान करने के निर्देश दिए है. वहीं बीजेपी ने भी व्हिप जारी कर अपने विधायकों को सदन में मौजूद रहकर सरकार कि ओर से लाए जा रहे विश्वास मत के विपक्ष में मतदान करने के निर्देश दिये हैं.

दरअसल, सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार शाम को अपना फैसला सुनाते हुए राज्य सरकार को शुक्रवार को शाम पांच बजे तक बहुमत साबित करने के लिये कहा है. शुक्रवार को विधानसभा का विशेष सत्र बुलाया गया है, जिसमें फ्लोर टेस्ट के दौरान विधायक हाथ उठाकर वोटिंग करेंगे. इसके साथ ही बेंगलुरु में ठहरे 16 विधायकों पर विधानसभा में उपस्थित रहने का कोई दबाव नहीं होगा. यह उनकी इच्छा पर निर्भर करता है कि वे विधानसभा में उपस्थित रहना चाहते हैं या नहीं. इसी के साथ सुप्रीम कोर्ट ने पूरी कार्यवाही की वीडियोग्राफी करने के निर्देश भी दिये हैं.