जींद के रहने वाले हैं, राम-रहीम को जेल भेजने वाले जज

सीबीआई कोर्ट पंचकूला के जज जगदीप सिंह ने पत्रकार रामचंद्र छत्रपति हत्याकांड

पंचकूला. हरियाणा की विशेष सीबीआई कोर्ट पंचकूला के जज जगदीप सिंह ने पत्रकार रामचंद्र छत्रपति हत्याकांड मामले में राम रहीम को दोषी करार दिया है. जज जगदीप सिंह 17 जनवरी को सजा का फैसला सुनायेंगे. जज जगदीप ने साध्वी यौन शोषण मामले में भी राम रहीम को 20 साल की सजा सुनाई थी. जगदीप सिंह 2016 में सीबीआई के विशेष जज के तौर पर नियुक्त किए गए थे. जगदीप सिंह हरियाणा के जिला जींद जिला के रहने वाले हैं.

जगदीप सिंह साल 2012 में हरियाणा न्यायिक सेवा के अधीन सोनीपत में पदस्थ हुए थे. ये उनकी पहली पोस्टिंग थी. उनकी दूसरी पोस्टिंग सीबीआई कोर्ट में की गई, जोकि हाईकोर्ट प्रशासन ने लंबे विचार-विमर्श और निरीक्षण के बाद उन्हें दी. इन्हें जेड श्रेणी की सुरक्षा भी मिली हुई है.

पंचकूला. पत्रकार छत्रपति हत्याकांड मामले को लेकर विशेष सीबीआई अदालत
प्रतीक चित्र

ये भी पढ़ें- सीबीआई कोर्ट ने माना पत्रकार की हत्या में शामिल था बाबा

अमूमन सीबीआई कोर्ट जज नियुक्ति की प्रक्रिया आसान नहीं होती, लेकिन जगदीप सिंह की काबिलियत के चलते ही उन्हें हाईकोर्ट प्रशासन ने एक ही पोस्टिंग के बाद सीबीआई कोर्ट की जिम्मेवारी सौंप दी. न्यायिक सेवा में आने से पहले जगदीप सिंह पंजाब और हरियाणा कोर्ट में वकील थे. वे साल 2000 और 2012 में कई सिविल और क्रिमिनल केस लड़ चुके हैं. उन्होंने पंजाब यूनिवर्सिटी से 2000 में कानून की डिग्री पूरी की. जगदीप सिंह को बहुत ही मेहनती और ईमानदार न्यायिक अधिकारी माना जाता है.

जगदीप सिंह ने सितंबर 2016 सड़क हादसे में घायल हुए चार लोगों की बचाया था. उस समय जगदीप सिंह हिसार से पंचकूला आ रहे थे. इसी दौरान रास्ते में एक हादसा हुआ, जिसमें चार लोग बुरी तरह घायल हो गए थे. जगदीप सिंह ने घायलों को बाहर निकालकर जीन्द अस्पताल में एंबुलेंस के लिए फोन किया था. उन्हें जानकारी दी गई कि एंबुलेंस आने में समय लग सकता है. ऐसे में जगदीप निजी वाहन में घायलों को लेकर खुद अस्पताल पहुंचे थे.