भाजपा के शासन में प्रदेश की कानून व्यवस्था चरमराई : कौल सिंह ठाकुर

मंडी. प्रदेश की कानून व्यवस्था चरमरा गई है. हर रोज होने वाले कत्ल, महिला उत्पीड़न और बलात्कार की घटनाओं ने देवभूमि हिमाचल को दानव भूमि बना दिया है. ऐसा लगता है कि प्रदेश में सरकार नाम का कोई डर नहीं है. पूर्व स्वास्थ्य मंत्री एवं कांग्रेस के कदावर नेता कौल सिंह ठाकुर ने कहा कि पिछले चार-पांच महीनों से प्रदेश में कानून व्यवस्था गड़बड़ा गई है.

यहां पत्रकारों से बात करते हुए कौल सिंह ठाकुर ने कहा कि कसौली गोलीकांड दुर्भाग्यपूर्ण घटना है. सहायक नगर नियोजन अधिकारी सुप्रीम कोर्ट के आदेशों की पालना कर रही थी. उसे गोली मारकर मुजरिम पुलिस के सामने ही वहां से फरार हो गया. जिसे बाद में उत्तर प्रदेश में पकड़ा गया. उसी प्रकार कांगड़ा के ज्वाली में गोली चली. बददी में पूर्व विधायक के चचेरे भाई की हत्या कर दी गई. जाहू में मर्डर हो गया. उन्होंने कहा कि बीते चार महीनों में प्रदेश में 80-82 इस तरह की घटनाएं हो गई.

अच्छे प्रशासन पर लगा सवालिया निशान

उन्होंने कहा कि सरकार के अच्छे प्रशासन पर सवालिया निशान लग गया है. अब तो भाजपा के ही लोग कहने लग गए हैं कि सरकार की लोकप्रियता का ग्राफ नीचे गिरने लगा है. जय राम ठाकुर के मुख्यमंत्री बनने से मंडी जिला को बड़ी उम्मीदें थी कि वह जिला के लिए बड़ी-बड़ी योजनाएं और नए प्रोजेक्ट लाएंगे. लेकिन अपने चुनाव क्षेत्र को छोड़ कर जिला के विकास कार्य ठप पड़े हुए हैं.

मोदी ने की हिमाचल से वादा खिलाफी

कौल सिंह ठाकुर ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हिमाचल के लोगों के साथ वादा खिलाफी की है. हिमचल के लोगों को सब्जबाग दिखाकर 2014 के लोकसभा चुनाव में रेलवे के विस्तार की बात कही थी. मगर आज तक एक किलोमीटर भी रेलवे का विस्तार नहीं हो पाया. मोदी ने पठानकोट-जोगिंद्रनगर रेलवे लाइन को मंडी तक लाने की बात कही थी.

हिमाचल के पर्यटन को विश्व के मानचित्र पर लाने का वादा किया था. हिमाचल को सेब राज्य की संज्ञा देते हुए चीन के सेब पर आयात शुल्क बढ़ाने की बात की थी. मगर कोई भी वादा पूरा नहीं किया गया. यही नहीं नरेंद्र मोदी ने सत्ता में आते ही महंगाई कम करने का वादा किया था. मगर अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट के बावजूद भी डीजल और पैट्रोल के दामों में भारी उच्छाल आया है. जबकि रसोई गैस यूपीए के शासन में 370 रूपए प्रति सिलेंडर थी जो अब बढ़ कर साढ़े आठ सौ को भी पार कर गई है.

नाकामियां छुपाने केलिए अधिकारियों के तबादले:

कौल सिंह ठाकुर ने कहा कि जयराम सरकार अपनी नाकामियों को छुपाने के लिए अधिकारियों को बलि का बकरा बना रही है. उन्होंने कहा कि हिमाचल के अधिकारी मेहनती और ईमानदार है. उन्हें बार-बार बदल कर उनका मनोबल गिराया जा रहा है. सरकार को अधिकारियों के तबादले करने के बजाय विकास की योजनाएं बनाने पर जोर देना चाहिए. 

गुड़िया कांड की जांच पर भी प्रश्न चिन्ह

कौल सिंह ठाकुर ने कहा कि गुड़िया कांड की सीबीआई से जांच की मांग कांग्रेस ने की थी. उन्होंने कहा कि सीबीआई की जांच पर भी प्रश्नचिन्ह लग गया है. पहले बताया गया कि यह गैंगरेप है. उसके बाद एक चरानी पकड़ा गया. उन्होंने कहा कि अगर यह गैंगरेप था तो बाकि के आरोपी कहां है.

उन्होंने कहा कि सीबीआई की यह जांच अधूरी है. प्रदेश की बिगड़ती कानून व्यवस्था और महिलाओं पर बढ़ रहे उत्पीड़न और बलात्कार के मामलों को लेकर कांग्रेस पार्टी ने 11 से 26 मई तक प्रदेश भर में धरने प्रदर्शन करने का ऐलान किया है. जिसके चलते 23 मई को मंडी में धरना प्रदर्शन किया जाएगा. जबकि 26 मई को मोदी सरकार के चार साल होने पर प्रदेश के हर ब्लाक में प्रदर्शन किया जाएगा.