पंजाब की बेटी ने बुझाई शिमला की प्यास, मिला राज्यपाल से सम्मान

जसवीर कौर को राजभवन, शिमला में सम्मानित कर उन्हें प्रशस्ति पत्र दिया

शिमला. राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने शिमला जलापूर्ति को सुचारू बनाने में समाज सेवा के तौर पर महत्वपूर्ण योगदान देने और मातृ-शक्ति का उद्हारण प्रस्तुत करने के लिए जसवीर कौर को राजभवन, शिमला में सम्मानित कर उन्हें प्रशस्ति पत्र दिया. जसवीर कौर पंजाब राज्य के संगरूर की रहने वाली हैं और ट्रक चालक के तौर पर टैंकर से पानी की आपूर्ति करने में शामिल थीं.

जसवीर कौर को राजभवन, शिमला में सम्मानित कर उन्हें प्रशस्ति पत्र दिया
जसवीर कौर

राजधानी शिमला में पिछले कुछ दिनों से हुए जलापूर्ति की कमी के दृष्टिगत राज्यपाल के आह्वान पर साईं इंजीनियरिंग फाऊंडेशन ने महापंचायत हरियाणा के सहयोग से जलापूर्ति की सुचारू व्यवस्था को बनाने में महत्वपूर्ण योगदान दिया है. इस कार्य में लगभग 27 टैंकों के माध्यम से सतलुज से पानी उठाकर गुम्मा जल भण्डारण तक पहुंचाया गया और यह कार्य फाऊंडेशन ने निःशुल्क किया गया. इन टैंकरों के माध्यम से प्रतिदिन करीब 10 लाख लीटर पानी उपलब्ध करवाया गया. प्रत्येक टैंकर के माध्यम से सतलुज से लगभग 18 किलोमीटर दूरी पर गुम्मा स्थित पानी के टैंक को भरा गया और उस पानी को लिफ्ट कर शिमला में आपूर्ति की गई. इस कार्य में साईं इंजीनियरिंग फाऊंडेशन द्वारा संचालित 27 टैंकरों में से एक में चालक के तौर पर जसवीर कौर ने सहयोगी की भूमिका निभाई है.

ये भी पढ़ें- हिमाचल में होगी हींग की खेती

राज्यपाल ने कौर की प्रशंसा करते हुए कहा कि उन्होंने ने केवल हिमाचल प्रदेश की कठिन भौगोलिक परिस्थितियों और दुर्गम सड़कों में ट्रक चालक का कार्य किया, बल्कि पुनीत कार्य में योगदान देकर समाज में आदर्श प्रस्तुत किया है और वह अन्यों के लिए भी उद्हारण बनीं हैं. राज्यपाल की प्रेरणा से महापंचायत हरियाणा के संयोजक संपूर्ण सिंह ने कौर के पुत्र को गोद लेने का फैसला लिया है और उसके पढ़ाई और अन्य खर्चें महापंचायत वहन करेगी.
इस अवसर पर, कौर के पति लख्खा सिंह को भी राज्यपाल ने सम्मानित किया.