पूर्व विदेश मंत्री जसवंत सिंह का परिवार कांग्रेस में शामिल

विधायक मानवेन्द्र सिंह और उनकी पत्नी चित्रा सिंह बुधवार को कांग्रेस में शामिल

नई दिल्ली/जयपुर. पूर्व विदेश मंत्री जसवंत सिंह के पुत्र बीजेपी विधायक मानवेन्द्र सिंह और उनकी पत्नी चित्रा सिंह बुधवार को कांग्रेस में शामिल हो गए है. मानवेंद्र सिंह अपनी पत्नी के साथ कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के निवास पर कांग्रेस की सदस्यता ली.

मानवेन्द्र के कांग्रेस में शामिल होने पर कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट ने दावा किया कि राजस्थान में कांग्रेस की स्थिति अच्छी है और मानवेंद्र के शामिल होने से पार्टी को लाभ होगा. उन्होंने मानवेन्द्र के कांग्रेस में शामिल होने का स्वागत करते हुए कहा कि मानवेन्द्र स्पष्टवादी और साफ छवि के नेता है. उन्होंने भाजपा पर अपने नेताओं की उपेक्षा का आरोप लगाते हुए कहा कि जन्म से लेकर अब तक जिन लोगों ने पार्टी को सींचा है, भाजपा उन्हीं लोगों को चुन चुनकर निशाना बना रही है. इसलिए वे सब लोग बेहतर कल की उम्मीद में विकल्प तलाशते हुए कांग्रेस में शामिल हो रहे हैं.

ये भी प्रदेश – जसवंत सिंह के बेटे मानवेन्द्र सिंह ने जारी किया पोस्टर, बीजेपी की बढ़ सकती हैं मुश्किलें

उन्होंने कहा कि विधानसभा और लोकसभा चुनाव से पहले मानवेन्द्र सिंह का कांग्रेस में शामिल होना इस बात का संकेत हैं कि जनता का रूख अब कांग्रेस की तरफ है. कांग्रेस में सभी जाति समाज के लोगों को पूरा सम्मान मिलता है. उन्होंने मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे पर निशाना साधते हुए कहा कि जिन लोगों ने उन्हें मुख्यमंत्री की कुर्सी तक पहुंचाया है, आज वे ही लोग उपेक्षित हैं. नेताओं का जब यह हाल है तो आप सोच सकते हैं प्रदेश की जनता का क्या हाल होगा.

विधायक मानवेन्द्र सिंह और उनकी पत्नी चित्रा सिंह बुधवार को कांग्रेस में शामिल

कांग्रेस में शामिल होने पर प्रतिक्रिया देते हुए मानवेन्द्र सिंह ने भाजपा और मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे पर कई गंभीर आरोप लगाए. उन्होंने कहा कि प्रदेश में भाजपा की सरकार बनने के बाद हमारे स्वाभिमान सेना के कार्यकर्ताओं को चुन चुनकर निशाना बनाया गया. लेकिन हमारे समर्थक स्वाभिमानी कार्यकर्ता कठिन हालातों में भी हमारे साथ रहे. अब पूरी स्वाभिमानी सेना कांग्रेस में आ रही है. उन्होंने विश्वास व्यक्त करते हुए कहा कि आने वाले विधानसभा और लोकसभा चुनाव में इसका पूरा लाभ कांग्रेस को मिलेगा.

2014 के लोकसभा चुनाव में भाजपा ने जसवंत सिंह को टिकट नहीं दिया

गौरतलब है कि जोधपुर संभाग के बाड़मेर जिले की शिव विधानसभा सीट से विधायक मानवेंद्र सिंह ने बीते 22 सितंबर को बाड़मेर में स्वाभिमान रैली कर भाजपा छोड़ने की घोषणा की थी. उन्होंने कहा था कि ‘कमल का फूल, हमारी भूल’ रही. वहीं, उनकी पत्नी चित्रा सिंह ने सरकार को उखाड़ फेंकने का आह्वान किया था. इससे पहले वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में भाजपा ने जसवंत सिंह को टिकट नहीं दिया था. इससे जसवंतसिंह निर्दलीय चुनाव लड़े थे.

मानवेन्द्रसिंह भाजपा से विधायक थे, बावजूद इसके उन्होंने भाजपा के खिलाफ अपने पिता के पक्ष में चुनाव प्रचार किया. हालांकि चुनाव में जसवंत सिंह हार गए थे. इसके बाद से ही जसवंत सिंह का परिवार भाजपा से नाराज चल रहा है. इस अवसर पर कांग्रेस के राष्ट्रीय संगठन महासचिव एवं पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट, राजस्थान प्रभारी अविनाश पांडेय, नेता प्रतिपक्ष रामेश्वर डूडी और पूर्व केन्द्रीय मंत्री भंवर जितेन्द्र सिंह, पूर्व सांसद हरिश चौधरी, सांसद रघु शर्मा भी मौजूद थे.