7 ग्रामीणों की निर्मम हत्या को लेकर बैठक, जांच और कारण पता करने के लिए एसआईटी का गठन

7 ग्रामीणों की निर्मम हत्या को लेकर बैठक, जांच और कारण पता करने के लिए एसआईटी का गठन - Panchayat Times

रांची. मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने पश्चिम सिंहभूम के बुरुगुली केला गांव में 7 ग्रामीणों की हुई निर्मम हत्या की घटना पर झारखण्ड मंत्रालय में मुख्य सचिव, अपर मुख्य सचिव गृह, डीजी पुलिस तथा पुलिस विभाग के अन्य अधिकारियों के साथ एक उच्च स्तरीय समीक्षा बैठक की.

अपराध करने वाले और कानून तोड़ने वालों में पुलिस का दहशत बना रहे

मुख्यमंत्री ने समीक्षा करते हुए यह स्पष्ट कहा कि यह सही है कि पुलिस हर जगह नहीं रह सकती है किंतु, पुलिस की कार्यशैली ऐसी होनी चाहिये कि जनता का भरोसा उस पर बना रहे तथा अपराध करने वाले और कानून तोड़ने वालों में पुलिस का दहशत भी बना रहे. मुख्यमंत्री ने कहा कि कानून सबसे उपर है और घटना के दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा.

वास्तविक कारणों के पता करने और दोषियों को चिन्हित करने के लिए एसआईटी का गठन

मुख्यमंत्री ने कहा कि तय समय सीमा के अंदर घटना के सही कारणों को सामने लाएं. उन्होंने पीड़ित परिवार से संपर्क कर परिजनों को अविलंब हर सम्भव सहायता करने का निद्रश दिया. उन्होंने कहा कि घटना के वास्तविक कारणों के उद्भेदन करने और दोषियों को चिन्हित करने के लिए एसआईटी का गठन किया जाए. जांच रिपोर्ट के बाद उसके बाद पीड़ित परिवार को तत्काल मदद के अलावा की जाने वाली पूरी सहायता पर और दोषी अधिकारियों के विरुद्ध भी कार्रवाई का निर्णय सरकार लेगी.

पुलिस सूचना तंत्र को प्रभावी बनाया जाए

हेमन्त सोरेन ने यह स्पष्ट कहा कि भविष्य में पूरे राज्य में ऐसी घटना को रोकने के लिए पुलिस सूचना तंत्र को प्रभावी बनाया जाए. ऐसी घटना दोबारा नहीं होनी चाहिए. उन्होंने कहा कि पुलिस के जिला से थाना तक सभी पूरी तरह चौकस रहें.

जनता के जानमाल की सुरक्षा से कोई समझौता नहीं करेगी सरकार

मुख्यमंत्री ने बेहद सख्त लहजे में कहा कि थाना की स्थिति आज अच्छी नहीं है और थाना प्रभारी अपने मुख्य लक्ष्य से भटक गए हैं. उन्होंने डीजीपी से कहा कि पुलिस तंत्र को यह स्पष्ट कर दें कि सरकार जनता के जानमाल की सुरक्षा से कोई समझौता नहीं करेगी. साथ ही, थाना स्तर पर व्याप्त कार्यशैली में सुधार लाने की दिशा में कार्रवाई सुनिश्चित करने का निदेश दिया.