पत्थलगढ़ी समर्थकों से जारी है झारखंड पुलिस का संघर्ष, तीन पुलिसकर्मी बंधक

रांची. खूंटी जिले में लगातार पत्थलगढ़ी को लेकर पुलिस और ग्रामीणों के बीच झड़प जारी है. इसी क्रम में बुधवार को भी खूंटी के घाघरा गांव में पत्थलगढ़ी के समर्थक सैकड़ों की संख्या में मौजूद हैं. बीजेपी सांसद कड़िया मुंडा के तीन हाउस गार्ड को छुड़ाने के लिए सैकड़ों की संख्या में पुलिस बल घाघरा गांव पहुंचा लेकिन अब तक पुलिस तीन हाउस गार्ड को बरामद करने में सफल नहीं हो पाई है.

पुलिस लगातार पत्थलगढ़ी के समर्थकों से बातचीत करने का प्रयास कर रही है लेकिन ग्रामीण मानने को तैयार नहीं है. बल्कि ग्रामीणों ने पुलिस बल का विरोध कर दिया है जिसके बाद पुलिस ने लाठीचार्ज कर ग्रामीणों को खदेड़ा है. हालांकि ग्रामीण अभी भी वहां डटे हुए हैं. पुलिस बल के साथ रैफ के भी जवान पत्थलगढ़ी समर्थकों के खिलाफ अभियान चला रहे हैं.

ये भी पढ़ें- नक्सली हमला: आईडी ब्लास्ट में झारखंड जगुआर के छह जवान शहीद

मंगलवार को पत्थलगढ़ी समर्थकों ने सांसद कड़िया मुंडा के तीन हाउस गार्ड को अगवा कर लिया था. जिसका अभी तक सुराग नहीं मिल पाया है. पुलिस लगातार उन तीनों अगवा हाउस गार्ड को वापस लाने की मशक्कत कर रही है लेकिन अब तक सफलता हाथ नहीं लगी है. पुलिस लगातार पत्थरगढ़ी के समर्थकों से बातचीत करने का प्रयास कर रही है लेकिन वह कुछ भी सुनने को तैयार नहीं है.

कुछ पत्थरगढ़ी समर्थक गिरफ्तार

खूंटी के एसपी अश्विनी कुमार ने बताया है कि फिलहाल हाउस गार्ड को सुरक्षित लाना ही उनकी प्राथमिकता है और उसके लिए लगातार सर्च अभियान चलाया जा रहा है. सांसद कड़िया मुंडा के तीन हाउस गार्ड को छुड़ाने के लिए लगभग एक हजार की संख्या में फोर्स तैनात किए गए हैं. पुलिस फोर्स को देख ग्रामीण आक्रोशित भी हैं और रुक-रुक कर झड़प हो रही है. इस दौरान कुछ पत्थलगढ़ी समर्थकों को गिरफ्तार भी किया गया है.