निगमों की कुर्सी पर बैठने के लिए झामुमो और कांग्रेस विधायकों की लगी होड़

मंत्री पद पाने के लिए दिल्ली से रांची तक लॉबिंग में जुटे कांग्रेस व झामुमो विधायक - Panchayat Times

रांची. मंत्री पद की रेस में पिछड़ रहे झामुमो और कांग्रेस के विधायकों ने अब बोर्ड, निगमों की कुर्सी पर बैठने के लिए भी दौड़ लगानी शुरू कर दी है. इसके लिए वह अपने नेतृत्व पर दबाव बना रहे हैं. ऐसे 18 पदों पर झामुमो और कांग्रेस नेताओं की नजर है.

लोकसभा और विधानसभा चुनाव हारे नेता पार्टी के प्रति वफादारी का हवाला देकर बोर्ड-निगम का जुगाड़ सेट करने में लग गए हैं. वहीं, बड़े नेताओं के चहेते भी इन कुर्सियों की जुगाड़ में दिन-रात एक किए हुए हैं. जानकारों का मानना है कि हेमंत सरकार रघुवर सरकार द्वारा नियुक्त किए गए बोर्ड और निगम के प्रमुखों को बाहर का रास्ता दिखाएगी. ऐसा पूर्व में भी होता आया है. कई बोर्ड और निगम के अध्यक्षों ने तो इस्तीफा भी दे दिया है. वहीं, आयोग के अध्यक्ष और सदस्यों को कार्यकाल पूरा किए बिना नहीं हटाया जा सकता है. इसलिए मंत्री पद की रेस में पिछड़ रहे विधायक कुछ ही दिनों में कार्यकाल पूरा करने वाले वैसे अध्यक्षों और सदस्यों के नाम गिना रहे हैं, जो भाजपा समर्थित हैं.

बाबूलाल मरांडी भाजपा में हो सकते है शामिल!

यहां के लिए लगी है होड़

झारखंड राज्य निगरानी पर्षद
विभाग: मंत्रिमंडल निगरानी
पद: उपाध्यक्ष
काम: राज्यस्तरीय योजनाओं की निगरानी प्रक्रिया की समीक्षा. भ्रष्टाचार रोकने के लिए पहल.
स्थिति: संस्था का गठन होना है.

पद महत्वपूर्ण है.

राज्यस्तरीय 20 सूत्री कार्यक्रम कार्यान्वयन समिति

विभाग: योजना सह वित्त
पद: उपाध्यक्ष
काम: प्रदेश की 20 सूत्री योजनाओं की समीक्षा
स्थिति: भाजपा समर्थित उपाध्यक्ष राकेश प्रसाद ने 31 दिसंबर को इस्तीफा दिया.

झारखंड राज्य विकास परिषद

विभाग: योजना सह वित्त
पद: उपाध्यक्ष
काम: राज्य की योजना प्रक्रिया को सुचारू करना और स्थानीय निकायों के बीच विभिन्न विभागों के काम का बंटवारा
स्थिति: सुदेश महतो को उपाध्यक्ष बनाय गया था. योगदान नहीं दिया.

झारखंड औद्योगिक क्षेत्र विकास प्राधिकार

विभाग: उद्योग
पद: अध्यक्ष
काम: इसके तहत राज्य के सभी औद्योगिक क्षेत्र आते हैं. इसका काम औद्योगिक इन्फ्रास्ट्रक्चर को मजबूती देना, औद्योगिक जमीन का आवंटन और निवेश को बढ़ावा देना है.
स्थिति: अध्यक्ष के पद पर राजनीतिक नियुक्ति हो सकती है.

झारक्राफ्ट

विभाग: उद्योग
पद: अध्यक्ष
काम: यह सिल्क उत्पादों के उत्पादन और मार्केटिंग की सरकारी कंपनी है. प्रदेश सरकार की यह प्रमुख पीएसयू है.
स्थिति: अध्यक्ष का पद खाली है.

झारखंड राज्य खादी ग्रामोद्योग बोर्ड

विभाग: उद्योग
पद: अध्यक्ष
काम: खादी उत्पादन एवं मार्केटिंग केंद्रों का नेटवर्क
स्थिति: संजय सेठ के सांसद बनने के बाद यह पद खाली है.

तेनुघाट विद्युत निगम लिमिटेड

विभाग: ऊर्जा
पद: अध्यक्ष
काम: थर्मल पावर कंपनी का प्रबंधन
स्थिति: चमरा लिंडा के बाद इस पद पर किसी की नियुक्ति नहीं हुई

15 सूत्री कार्यक्रम क्रियान्वयन समिति

विभाग: कल्याण
पद: अध्यक्ष और उपाध्यक्ष
काम: कल्याण विभाग से जुड़ी फ्लैगशिप योजनाओं की समीक्षा और उन्हें गति देना.
स्थिति: सरकार नए सिरे से गठन करेगी. फिलहाल ये पद खाली हैं.

झारखंड राज्य आवास बोर्ड

विभाग: आवास
पद: अध्यक्ष
काम: आम लोगों के लिए सस्ते आवास का निर्माण और उसका आवंटन.
स्थिति: रघुवर राज में जानकी यादव को चेयरमैन बनाया गया.

झालको

विभाग: जल संसाधन
पद: अध्यक्ष
काम: हिल एरिया में लिफ्ट एरिगेशन का विकास
स्थिति: अध्यक्ष कोई नहीं है.

झारखंड कृषि विपणन परिषद

विभाग: कृषि
पद: अध्यक्ष
काम: कृषि उत्पादन बाजार समितियों का प्रबंधन
स्थिति: पिछली सरकार ने गणेश गंझू को बनाया.

रांची क्षेत्रीय विकास प्राधिकार

विभाग: नगर विकास
पद: अध्यक्ष
काम: रांची नगर निगम क्षेत्र से बाहर इन्फ्रास्ट्रक्चर का विकास
स्थिति: रघुवर सरकार में परमा सिंह को बनाया गया.

झारखंड पर्यटन विकास निगम

विभाग: पर्यटन
पद: अध्यक्ष
काम: प्रदेश में पर्यटन सुविधाओं का विकास
स्थिति: अध्यक्ष पद खाली है.

झारखंड राज्य वन विकास निगम

विभाग: वन एवं पर्यावरण
पद: अध्यक्ष
काम: वन क्षेत्र का विकास, वन उत्पादों का भंडारण और मार्केटिंग और जंगल से जुड़े रोजगार को बढ़ावा देनार
स्थिति: आलोक चौरसिया को अध्यक्ष बनाया गया.

झारखंड राज्य धार्मिक न्यास बोर्ड
पद: अध्यक्ष
काम: हिंदू मठ-मंदिरों का प्रबंधन और उनका विकास
स्थिति: फिलहाल कोई अध्यक्ष नहीं है.

मुख्यमंत्री लघु एवं कुटीर उद्यम विकास बोर्ड

पदः अध्यक्ष
कामः राज्य में लघु और कुटीर उद्योगों का विकास.
स्थितिः फिलहाल यह पद खाली है.

झारखंड माटी कला बोर्ड

पदः अध्य़क्ष और सदस्य
कामः माटी कला के विकास के जरिए आजीविका संवर्द्धन करना.
स्थितिः रघुवर सरकार के दौरान श्रीचंद प्रसाद को अध्य़क्ष बनाया गया.

समाज कल्याण बोर्ड
पदः अध्यक्ष और सदस्य
कामः समाज कल्याण की योजनाओं को लागू कराना.
स्थितिः भाजपा राज में ऊषा पांडेय को अध्यक्ष बनाया गया था.

पार्टी नेताओं को यहां मिल सकती है जगह

झारखंड राज्य बाल श्रमिक आयोग
विभाग: श्रम नियोजन एवं प्रशक्षिण
पद: अध्यक्ष
काम: बाल श्रम खत्म करना और बाल श्रमिकों के पुनर्वास की योजना बनाना.
स्थिति: प्रदेश में गठन होना है.

राज्य अल्पसंख्यक आयोग

विभाग: कल्याण
पद: अध्यक्ष
काम: अल्पसंख्यकों को उत्पीड़न से बचाने और उनके कल्याण के लिए काम
स्थिति: भाजपा राज में कमाल खान अध्यक्ष बनाए गए.

झारखंड राज्य अनुसूचित जाति आयोग

विभाग: कल्याण
पद: अध्यक्ष
काम: दलितों को उत्पीड़न से बचाना और उनके कल्याण का प्रस्ताव तैयार करना.
स्थिति: इस आयोग का गठन होना है.

झारखंड अनुसूचित जनजाति आयोग

पदः अध्यक्ष और सदस्य
कामः अनुसूचित जाति के अधिकारों का संवर्द्धन.
स्थितिः तत्कालीन मुख्यमंत्री रघुवर दास ने घोषणा की थी. गठन नहीं हो पाया.

झारखंड राज्य गो सेवा आयोग

विभाग: कल्याण
पद: अध्यक्ष
काम: सार्वजनिक गोशालाओं को बढ़ावा देना. गोहत्या पर रोक लगाने के लिए माहौल बनाना.
स्थिति: गठन होना है.

राज्य महिला आयोग

विभाग: समाज कल्याण
पद: अध्यक्ष
काम: महिला सशक्तीकरण के लिए काम करना
स्थिति: महिला आयोग अध्यक्ष कल्याणी शरण हैं.

युवा आयोग

विभाग: कला, संस्कृति, खेलकूद एवं युवा कार्य
पद: अध्यक्ष
काम: युवाओं का सामाजिक सांस्कृतिक विकास
स्थिति: युवा आयोग का गठन होना है.

खास योग्यता वाले पार्टी समर्थक नवाजे जाएंगे

राज्य विधि आयोग
विभाग: विधि
पद: अध्यक्ष
काम: राज्य के कानूनों की समीक्षा करना और संशोधन तथा नए कानून की रूप-रेखा तैयार करना.
स्थिति: राजकिशोर महतो की अध्यक्षता वाले आयोग की अवधि पूरी होने के बाद गठन नहीं हुआ है. हाईकोर्ट के रिटायर्ड जज या जज की अर्हता रखने वाले अधिवक्ता इसके पात्र हैं.

राज्य निःशक्तता आयुक्त

पदः राज्य निःशक्तता आयुक्त
कामः दिव्यांगों के अधिकारों का संरक्षण और उनके विकास के लिए राज्य सरकार को सलाह देना
स्थितिः फिलहाल सतीश चंद्रा राज्य निःशक्तता आयुक्त हैं.

झारखंड एकेडमिक काउंसिल

विभाग: शिक्षा
पद: अध्यक्ष
काम: उच्च वद्यिालयों और इंटर कॉलेजों का अकादमिक प्रबंधन
स्थिति:

झारखंड राज्य प्रदूषण नियंत्रण परिषद

विभाग: वन एवं पर्यावरण
पद: अध्यक्ष
काम: पर्यावरण प्रदूषण को नियंत्रित करने वाला नियामक निकाय
स्थिति: पर्यावरण प्रबंधन में शैक्षिक योग्यता रखने वाला इस पद के योग्य हो सकता है.

झारखंड शिक्षा न्यायाधिकरण
पदः अध्यक्ष एवं सदस्य
कामः स्कूलों के प्रबंधन के लिए नियामकीय संस्था.
स्थितिः मुख्तयार सिंह के बाद कोई चेयरमैन नहीं बना है.