जोधपुर भाजपा का जेल भरो आंदोलन

हिमाचल में भाजपा लोकसभा उम्मीदवारों की ये है लिस्ट - Panchayat Times
प्रतीक चित्र

जोधपुर. कांग्रेस पर पूर्ण कर्ज माफी का वायदा कर सब्जबाग दिखाने और स्वाइन फ्लू के कारण हुई मौतों के खिलाफ शुक्रवार को भाजपा के जेल भरो आंदोलन के तहत जोधपुर में भी भाजपा नेताओं और कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन के बाद गिरफ्तारियां दी. भाजपा कार्यकर्ताओं ने कलेक्ट्रेट के बाहर पुलिस और कांग्रेस के खिलाफ नारेबाजी की. इससे पहले उन्होंने जुलूस भी निकाला.

दरअसल कांग्रेस के सत्ता में आने पर किसानों को दस दिन में पूर्ण कर्ज माफी का वादा पूरा नहीं करने और प्रदेशभर में चिकित्सा विभाग की घोर लापरवाही से स्वाइन फ्लू से मौतों के खिलाफ भाजपा ने शुक्रवार को पूरे प्रदेशभर में प्रदर्शन व जेल भरो आंदोलन किया.

ये भी पढ़ें– राजस्थान में किसानों का कर्ज माफ होने लगा

इस कड़ी में जोधपुर में भी भाजपा शहर जिला, देहात और फलोदी कमेटी के संयुक्त तत्वावाधान गिरफ्तारियां दी गई. इससे पहले भाजपा कार्यकर्ता दोपहर में नई सड़क चौराहा के पास राजीव गांधी चौक पर एकत्रित हुए. यहां से भाजपा शहर जिलाध्यक्ष जगतनारायण जोशी के नेतृत्व में अपने हाथों में भगवा झंडा लेकर कांग्रेस के खिलाफ नारेबाजी करते हुए भाजपा नेता व कार्यकर्ता कलेक्ट्रेट के लिए रवाना हुए. जुलूस के रूप में वे लोग हाईकोर्ट रोड होते हुए कलेक्ट्रेट पहुंचे.
कलेक्ट्रेट पहुंचने पर भाजपा कार्यकर्ताओं ने कांग्रेस के खिलाफ नारेबाजी भी की. यहां पर कांग्रेस सरकार के किसानों के साथ किए गए झूठे वादे, बेरोजगारों को भत्ता देने का झूठा आश्वासन व प्रदेश में सामान्य वर्ग को अब तक 10 प्रतिशत आरक्षण लागू नहीं करने और स्वाइन फ्लू से असामयिक मौतों के विरोध में प्रदर्शन किया गया. इस दौरान कुछ भाजपा कार्यकर्ताओं की वहां तैनात पुलिस अधिकारियों से बहस भी हुई जिसके बाद वे पुलिस के खिलाफ भी नारेबाजी करने लग गए.

इन्होंने दी गिरफ्तारियां

भाजपा से कई नेताओं और कार्यकर्ताओं ने कलेक्ट्रेट के बाहर गिरफ्तारियां दी. इनमें शहर भाजपा के जिलाध्यक्ष जगतनारायण जोशी के साथ महापौर घनश्याम ओझा, उपमहापौर देवेंद्र सालेचा, विधायक सूर्यकांता व्यास, पूर्व सांसद जसवंतसिंह विश्नोई, पूर्व विधायक कैलाश मेघवाल, पूर्व राजसिको चेयरमैन मेघराज लोहिया पूर्व विधायक बाबूसिंह, पूर्व मंत्री राजेंद्र गहलोत, रामनारायण डूडी, महेंद्र मेघवाल, आनंद पुरोहित आदि प्रमुख थे. इसके साथ ही कई अन्य पदाधिकरी व कार्यकर्ताओं ने भी बढ़-चढ़कर सामूहिक गिरफ्तारियां दी.