कड़िया मुंडा और खूंटी की वर्तमान राजनीति

वर्तमान सांसद कड़िया मुंडा के टिकट कटने को लेकर है. लोकसभा चुनाव - Panchayat Times
कड़िया मुंडा

खूंटी. राजनीतिक गलियारों में इन दिनों सबसे अधिक चर्चा वर्तमान सांसद कड़िया मुंडा के टिकट कटने को लेकर है. लोकसभा चुनाव का बिगुल बजने के साथ ही जनजातियों के लिए आरक्षित खूंटी संसदीय सीट में राजनीतिक हलचल और तेज हो गयी है. अभी तक सिर्फ भाजपा ने ही अपने उम्मीदवार की घोषणा की है. महागठबंधन में खूंटी सीट कांग्रेस के पास आयी है, पर पार्टी ने अबतक उम्मीदवार के नाम को सार्वजनिक नहीं किया है. हालांकि पार्टी सूत्रों पर भरोसा करें, तो राज्यसभा के पूर्व सांसद डाॅ. प्रदीप कुमार बलमुचू कांग्रेस के प्रत्याशी हो सकते हैं.

आठ बार खूंटी का प्रतिनिधित्व कर चुके पद्मभूषण से सम्मानित सांसद कड़िया मुंडा के टिकट कटने का अनुमान तो पहले से ही लगाया जा रहा था और इसका एक कारण उनकी उम्र भी है. इस समय कड़िया मुंडा 82 बसंत देख चुके हैं. जानकार बताते हैं कि भाजपा पहले ही सांसद कड़िया मुंडा को ससम्मान विदाई देने का मन बना चुकी थी. उन्हें पद्मभूषण सम्मान से अलंकृत किये जाने को कुछ लोग कड़िया जी की विदाई से भी जोड़ कर देखते हैं. कड़िया मुंडा ने भी राजनीतिक परिपक्वता का परिचय देते हुए रांची के सांसद रामटहल चौधरी की तरह टिकट नहीं मिलने पर कोई विपरीत प्रतिक्रिया नहीं दी. उन्होंने कहा कि पार्टी ने उन्हें बहुत कुछ दिया.

यह भी पढ़े: झारखंड: राजद प्रदेश अध्यक्ष अन्नपूर्णा देवी भाजपा में शामिल

सांसद ने कहा कि यदि पार्टी चाहेगी तो वे अर्जुन मुंडा के पक्ष में प्रचार करेंगे

राजनीति के जानकारों का कहना है कि इससे पार्टी में उनका कद बढ़ा है. हालांकि उनके विरोधी कहने से नहीं चूकते कि कड़िया मुंडा को भी जमीनी हकीकत मालूम है कि विरोध करने से कुछ होने वाला नहीं है. इसलिए उन्होंने पार्टी के निर्णय को सहर्ष स्वीकार कर लिया. वैसे भी कड़िया मुंडा के समर्थक ही नहीं, उनके विरोधी भी इस बात को स्वीकार करते हैं कि कड़िया का 60 वर्षों का राजनीतिक जीवन बेदाग रहा. केंद्र में कोयला मंत्री, स्टील एंड माइंस सहित अन्य विभागों के मंत्री रहने के बाद भी कभी उनपर किसी तरह कोई आरोप नहीं लगा. हालांकि सांसद मुंडा पर क्षेत्र के विकास के लिए कुछ खास नहीं करने और आमलोगों से कटे रहने का आरोप लोग जरूर लगता रहा है. इधर, अर्जुन मुंडा की उम्मीदवारी की घोषणा होते ही पार्टी कार्यकर्ताओं ने एक स्वर से इसका स्वागत किया. भाजपा कार्यकर्ताओं ने कहा कि पार्टी ने अच्छा निर्णय लिया है.