हिमाचल में कांगड़ा सबसे बड़ी लोकसभा सीट

झारखंड : विधानसभा चुनाव को लेकर विपक्षी फिर महागठबंधन बनाने की तैयारी में जुटे-Panchayat Times
प्रतीक चित्र

धर्मशाला. हिमाचल प्रदेश की कांगड़ा लोकसभा सीट मतदाताओं की संख्या की दृष्टि से राज्य में सबसे बड़ी है. चुनाव आयोग के रिकार्ड के मुताबिक 17 विधानसभा हलकों वाले कांगड़ा संसदीय क्षेत्र में 14 लाख 27 हजार 338 पंजिकृत मतदाता हैं. इसी प्रकार 12 लाख 59 हजार 85 मतदाताओं के साथ शिमला संसदीय क्षेत्र प्रदेश में सबसे छोटा है. ताजा आंकड़ों के अनुसार प्रदेश में कुल मतदाताओं की संख्या 53 लाख 30 हजार 154 हो गई है.

कांगड़ा निर्वाचन क्षेत्र में 7 लाख 27 हजार 384 पुरुष और 6 लाख 99 हजार 934 महिला मतदाता हैं. इसके अलावा तृतीय लिंग के 20 मतदाता भी हैं. इस लोकसभा क्षेत्र में कुल 1874 मतदान केंद्र हैं. 2019 के चुनावी दंगल में 11 उम्मीदवार इस संसदीय क्षेत्र से किस्मत आजमा रहे हैं. हालांकि मुख्य मुकाबला भाजपा और कांग्रेस के बीच होने की संभावना है. रोचक बात यह है कि दोनों दलों ने अपने विधायकों को चुनाव मैदान में उतारा है. भाजपा ने जहां मौजूदा मंत्री किशन कपूर पर दांव खेला है, वहीं कांग्रेस ने पवन काजल को उम्मीदवार बनाया है.

कांगड़ा लोकसभा सीट पर इस वक्त भारतीय जनता पार्टी के नेता शांता कुमार सांसद हैं. उन्होंने 2014 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के चन्द्र कुमार को 1.70 लाख मतों से पराजित किया था. 2014 के लोकसभा चुनाव में इस सीट पर कुल 64 फीसदी मतदान हुआ था. 1967 से 2014 के बीच इस सीट पर भाजपा छह बार और कांग्रेस चार बार भाजपा जीती है. भाजपा की छह जीतों में चार बार शांता कुमार और एक-एक बार डॉ. राजन सुशांत और डीडी खनौरिया सांसद रहे हैं.

राजधानी दिल्ली समेत सात राज्यों में वोटिंग शुरू

कांगड़ा-चंबा संसदीय क्षेत्र में चंबा जिला की भटियात, चुराह, डलहौजी व सदर विधानसभा क्षेत्र आते हैं. इसके अलावा कांगड़ा जिला से बैजनाथ, जयसिंहपुर, पालमपुर, सुलह, नगरोटा बगवां, धर्मशाला, कांगड़ा, ज्वालामुखी, शाहपुर, जवाली, नूरपुर, फतेहपुर और इंदौरा विधानसभा क्षेत्र आते हैं। बड़ा भंगाल संसदीय क्षेत्र का सबसे दुर्गम मतदान केंद्र है.