बकरवालों की जिंदगी पर आधारित फिल्म ‘करीम मोहम्मद’ रिलीज

बकरवालों की जिंदगी पर आधारित हिंदी फिल्म ‘करीम मोहम्मद’ - Panchayat Times

मंडी. बकरवालों की जिंदगी पर आधारित हिंदी फिल्म ‘करीम मोहम्मद’ शुक्रवार को रिलीज हो गई. मंडी जिला की जंजैहली घाटी के बुलाह और बूढ़ा केदार की वादियों में फिल्माई गई इस फिल्म की खास बात ये है कि इसका निर्देशन भी मंडी से संबंध रखने वाले मशहूर फिल्म डायरेक्टर पवन शर्मा ने किया है. वहीं, इस फिल्म का संगीत भी मंडी जिला के गुणी संगीतकार बालकृष्ण शर्मा ने दिया है. जबकि, मंडी के ही पारस का भी इस फिल्म में अहम रोल है. मंडी के कुसुम सिनेमा में इस फिल्म का पहला शो देखने वालों का कहना है कि यह फिल्म आतंकवाद के खिलाफ बहुत बड़ा संदेश देती है.

इस फिल्म का मुख्य किरदार एक मासूम बच्चा है. जो अपने पिता से बकरवालों की जिंदगी और उनके जीवन आदर्शों के बारे में जानता है. जिसके पिता कहते हैं कि ‘जो रूक गया वो पत्थर जो चलता रहा वो बकरवाल है.’ इस फिल्म की कहानी भी बकरवाल लोगों की जिंदगी की तरह सीधी और सरल है. जिनका जीवन सफर में गुजर जाता है. मगर उनका ईमान कभी डगमगाता नहीं है. उनमें देश भक्ति का जज़बा कूट-कूट कर भरा होता है.

बकरवालों की जिंदगी पर आधारित हिंदी फिल्म ‘करीम मोहम्मद’ - Panchayat Times

आतंकवाद के खिलाफ बकरवाल

इस फिल्म के निर्देशक पवन शर्मा का कहना है कि बकरवाल कश्मीर की पहाड़ियों में बकरियां चराते हुए खानाबदोशों सी जिंदगी जीते हैं. ऊंचे पहाड़ों में जहां न फौज होती है और न ही पुलिस ये बकरबाल ही सबसे पहले सीमा पार से होने वाली घुसपैठ की सूचना देते हैं. वहीं, आतंकियों से भी सबसे पहले इनका ही सामना होता है. जो कभी उनकी भेड़ों को उठाकर ले जाते हैं तो कभी खाना-पानी छीन लेते हैं. इसके बावजूद भी ये लोग सच्चे देशभक्त होते हैं. पवन शर्मा ने बताया कि लंबी चौड़ी कदकाठी के मालिक इन बकरवालों के पूर्वज अफगानिस्तान से हिंदुस्तान आए थे. उनकी बोली में वही पठानी लहजा भी है.

ये भी पढ़ें- फिल्म ‘फन्ने खां’ में अनिल कपूर की बेटी की भूमिका निभा रही मंडी की पीहू

इस फिल्म में करीम मोहम्मद का पिता जहां ईमानदारी की मिशाल पेश करते हुए अपने जीजा के घर छिपे आतंकियों को पकड़वाने की कोशिश में अपनी जान गवां देते हैं. वहीं, करीम मोहम्मद लोगों को आतंकवाद के खिलाफ खड़ा कर उन्हें पकड़वाने में मदद करता है. अंत में वह अपनी भेड़ों और छोटी बहन को लेकर सफर पर निकल जाता है. इस फिल्म में मंडी जिला की खूबसूरत जंजैहली घाटी, वहां के जनजीवन और प्राकृतिक सौंदर्य को दर्शाया गया है जो कश्मीर से कहीं कम नहीं है. उम्मीद है यह फिल्म आतंकवाद के खिलाफ संदेश देने के साथ-साथ मंडी जिला के अनछूए पर्यटन स्थलों को देश के सामने प्रस्तुत करेगी.

फिल्म करीम मोहम्मद का पोस्टर