कर्नाटक: सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, शाम 4 बजे होगा शक्ति परीक्षण

नई दिल्ली. कर्नाटक मामले में शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई. सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए कहा कि शनिवार शाम 4 बजे सदन में बहुमत परीक्षण हो. सुप्रीम कोर्ट ने गुप्त मतदान से इनकार कर दिया है. हालांकि  बीजेपी के वकील मुकुल रोहतगी ने सोमवार तक का समय मांगा था. लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने शनिवार शाम 4 बजे फ्लोर टेस्ट कराने का आदेश दिया है.

कर्नाटक: हैदराबाद भेजे गए कांग्रेस-जेडीएस विधायक

प्रोटेम स्पीकर फ्लोर टेस्ट के तरीकों पर फैसला करेंगे. कोर्ट ने सीक्रेट बैलट से मतदान की मांग को ठुकरा दिया. सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद कांग्रेस नेता अश्विनी कुमार ने कहा, सुप्रीम कोर्ट के फैसले ने सांविधानिक नैतिकता और लोकतंत्र को बनाए रखा. यह ऐसा फैसला है जिसपर जश्न मनाया जाना चाहिए. सुप्रीम कोर्ट में लोगों का भरोसा आज और बढ़ गया.

कर्नाटक में किसी को नहीं बहुमत, शुरू हो गया जोड़तोड़ से सरकार बनाने का खेल

कर्नाटक विधानसभा
(साभार- डेक्कन हेराल्ड)

कांग्रेस की तरफ से वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने सुप्रीम कोर्ट से कहा कि फ्लोर टेस्ट की वीडियोग्राफी हो और विधायकों को सुरक्षा मिलनी चाहिए ताकि वह वोट कर सकें. वहीं सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक विधानसभा में एंग्लो-इंडियन सदस्य की नियुक्ति पर भी रोक लगा दी है. वहीं सुप्रीम कोर्ट के मुताबिक, येदियुरप्पा फ्लोर टेस्ट होने तक कोई नीतिगत फैसला नहीं ले सकेंगे.