क्या है व्हाट्सएप की नई पॉलिसी जिसकी हर तरफ हो रही है चर्चा, जानिए अब आपकी कितनी जानकारियों को लेगा व्हाट्सएप और किनके साथ करेगा शेयर

क्या है व्हाट्सएप की नई पॉलिसी जिसकी हर तरफ हो रही है चर्चा, जानिए अब आपकी कितनी जानकारियों को लेगा व्हाट्सएप और किनके साथ करेगा शेयर - Panchayat Times
For Representational Purpose Only Source - Internet

नई दिल्ली. व्हाट्सएप ने हाल ही में अपनी गोपनीयता नीति और सेवा की शर्तों को अपडेट किया, जिसके मुताबिक व्हाट्सएप द्वारा फेसबुक के स्वामित्त्व वाले और अन्य किसी तीसरे पक्ष के एप के साथ उपयोगकर्त्ता का डेटा साझा किया जा सकता है.

नई भुगतान सुविधा के माध्यम से भी डेटा एकत्र होगा

नई नीति के मुताबिक, यदि उपयोगकर्त्ता व्हाट्सएप की नई गोपनीयता नीति को मानने से इनकार करते हैं, तो उन्हें व्हाट्सएप छोड़ना पड़ेगा. इसके अलावा व्हाट्सएप द्वारा नई भुगतान सुविधा के माध्यम से भी डेटा एकत्र किया जाएगा, जिसमें लेन-देन और शिपमेंट आदि का भी डेटा शामिल हैं.

क्या है व्हाट्सएप की नई पॉलिसी जिसकी हर तरफ हो रही है चर्चा, जानिए अब आपकी कितनी जानकारियों को लेगा व्हाट्सएप और किनके साथ करेगा शेयर - Panchayat Times
Whatsapp’s new policy update

आपकी कितनी जानकारियों को लेगा व्हाट्सएप

व्हाट्सएप की नई गोपनीयता नीति और शर्तों के अनुसार, यह स्थान, डिवाइस मॉडल, ऑपरेटिंग सिस्टम, बैटरी और ब्राउजर विवरण से संबंधित सूचना भी एकत्र और साझा करेगा. शर्तों में कहा गया है कि आपके मोबाइल से ली जाने वाली सारी जानकारियां फेसबुक (Facebook) और इंस्टाग्राम (Instagram) के साथ शेयर की जाएगी.

यूजर्स के पास 8 फरवरी तक का समय

व्हाट्सएप की नई पॉलिसी को मानने के लिए यूजर्स के पास 8 फरवरी तक का समय है. यूजर्स को फिलहाल अभी नहीं का ऑप्शन भी दिया गया है, लेकिन 8 फरवरी के बाद जो लोग पॉलिसी को नहीं स्वीकारेंगे वे इस ऐप का इस्तेमाल नहीं कर पाएंगे.

व्हाट्सएप की स्थापना साल 2009 में

ज्ञात हो की व्हाट्सएप की स्थापना वर्ष 2009 में एक मुफ्त और क्रॉस-प्लेटफॉर्म मैसेजिंग एप के रूप में की गई थी और मात्र चार वर्ष के अंदर ही व्हाट्सएप के करीब 400 मिलियन (40 करोड़) उपयोगकर्त्ता बन गए. इसके बाद वर्ष 2014 में फेसबुक ने व्हाट्सएप का अधिग्रहण कर लिया और अब धीरे-धीरे फेसबुक द्वारा व्हाट्सएप की नीति में परिवर्तन किया जा रहा है.

सारा खेल डेटा का

इस पॉलिसी में सबसे महत्वपूर्ण डेटा है, और डेटा मे भी सबसे बड़ी है आपकी चैटिंग. व्हाट्सएप भले ही एंड टू एंड एंक्रिप्शन (यानि की मैसेज एक दुसरे के बीच ही है कोई तीसरा उसको नही देख रहा) का दावा करता है.

लेकिन ये पूरी तरह सच नहीं है और यह पेगासिस जैसी कई बड़ी हैकिंग में साबित भी हो गया है. नई शर्तों के लागू होने के बाद यह भी संभव है कि व्हाट्सएप आपकी चैटिंग पर भी नजर रखे और आपके मैसेज के आधार पर फेसबुक और इंस्टाग्राम पर विज्ञापन दिखाए.

कैसे होगा डेटा का उपयोग

उदाहरण के तौर पर समझें तो मान लीजिए कि आपने अपने दोस्त के साथ फ्लिपकार्ट पर बिक रहे किसी प्रोडक्ट का लिंक शेयर करते हैं तो संभव है कि व्हाट्सएप आपके इस मैसेज के आधार पर आपको और आपके दोस्त को उस प्रोडक्ट का विज्ञापन फेसबुक और इंस्टाग्राम पर दिखाए.

कुल मिलाकर बात इतनी-सी है कि आपके व्हाट्सएप डाटा का इस्तेमाल फेसबुक अपने बिजनेस, अपने फायदे के लिए करेगा और इसे आप रोक नहीं सकते, यदि आपको रोकना है तो आपको अपने व्हाट्सएप अकाउंट को डिलीट करना होगा.