जानिए क्या है जिला निगरानी समिति और इसके कार्य

जानिए क्या है जिला निगरानी समिति और इसके कार्य - Panchayat Times

नई दिल्ली. जिला निगरानी समिति को महात्मा गांधी राष्ट्रीय रोजगार गारंटी योजना, दीनदयाल अंत्योदय आजीविका मिशन, प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना, प्रधानमंत्री आवास योजना, स्किल इंडिया, स्वच्छ भारत मिशन, डिजिटल इंडिया सहित कुल 42 योजनाओं का विकास समन्वय एवं निगरानी का दायित्व दिशा को सौंपा गया है.

दिशा (DISHA) पहल से ग्रामीण विकास मंत्रालय की 42 योजनाओं से संबंधित आंकडे़ एक ही नजर में उपलब्ध है, अतः इससे यह पता लगाना आसान हो गया है कि योजनावार कौन-कौन से जिले पीछे चल रहे हैं और फिर उसी के अनुसार सुधारात्मक कदम उठाए जा सकते हैं.

दिशा के बारे में-

जिलों के समन्वित, प्रभावी और समयबद्ध विकास के लिए सभी स्तरों पर निर्वाचित प्रतिनिधियों के बीच बेहतर समन्वय की आवश्यकता को पूरा करने के लिए 2016 में Co DISHA ’नाम की जिला विकास समन्वय और निगरानी समिति का गठन किया गया था. संसद सदस्यों की अध्यक्षता वाली DISHA समितियां निर्धारित प्रक्रियाओं और दिशानिर्देशों के अनुसार कार्यक्रमों के कार्यान्वयन की निगरानी करती हैं. देश के 698 जिलों में DISHA समितियों का गठन किया गया है.

दिशा का गठन प्रभावी विकास समन्वय के लिए किया गया है. जिला स्तर पर क्षेत्र के सांसद की अध्यक्षता में गठित ‘दिशा’ की सदस्यता जिला निगरानी समिति की तरह ही रहेगी. केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर के अनुसार इस समिति के पास समन्वय एवं निगरानी शक्तियां होंगी.

समिति के उत्तरदायित्व-

इस समिति का कार्य अनुमोदित परियोजनाओं को समय से पूरा करने के लिए इसमें आने वाली बाधाओं को दूर करना है. इस समिति के पास विचार-विमर्श के दौरान उठाए गए मुद्दों पर प्रभावी अनुवर्ती कार्रवाई करने की शक्तियां होंगी जिला कलेक्टर सदस्य सचिव होंगे, जिसका दायित्व सिफारिशों पर कार्रवाई करने का होगा.