जानिए, आयुष्मान भारत योजना के तहत कितने लोगों को मिला लाभ?

जानिए, आयुष्मान भारत योजना के तहत कितने लोगों को मिला लाभ?-Panchayat Times
साभार इंटरनेट

नई दिल्ली. आजकल के दौर में किसी गरीब के घर में अगर कोई बीमार पड़ जाए या उसे कोई गंभीर बीमारी हो जाए तो परिवार का मुख्या उसके इलाज के पैसों का इंतजाम करने में जुट जाता है. इसी को देखते हुए केंद्र की मोदी सरकार ने गरीबो को इलाज में राहत देते हुए एक योजना की शुरुआत की. इस योजना का नाम है आयुष्मान भारत योजना. जिसका उद्देश्य आर्थिक रूप से कमजोर लोगों (बीपीएल धारक) को स्वास्थ्य बीमा मुहैया कराना है. इसके अन्तर्गत आने वाले हर एक परिवार को 5 लाख तक का कैश रहित स्वास्थ्य बीमा उपलब्ध कराया जायेगा. 10 करोड़ बीपीएल धारक परिवार (लगभग 50 करोड़ लोग) इस योजना का प्रत्यक्ष लाभ उठा सकेगें. इसके अलावा बाकी बची आबादी को भी इस योजना के अन्तर्गत लाने की भी योजना है.

इन राज्यों में लागू है यह योजना

26 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में आयुष्मान भारत योजना योजना लागू है जबकि चार राज्यों दिल्ली, ओडिशा, पश्चिम बंगाल और तेलंगाना में इस योजना लागू नहीं है. जनवरी 2020 तक 11,86,16,078 लोगों का कार्ड बन चुका है. वहीं आयुष्मान योजना के अंतर्गत 74,84,202 लाभार्थी अस्पतालों में मुफ्त इलाज करा चुके हैं.

यह लोग उठा सकते हैं आयुष्मान भारत योजना का लाभ

आयुष्मान भारत योजना का मकसद गरीब, वंचित ग्रामीण परिवारों और शहरी श्रमिकों के परिवारों की चिन्हित कैटेगरी को हेल्थ बीमा का लाभ देना है. इसलिए 2011 की जनगणना को आधार पर 8.03 ग्रामीण परिवार और 2.33 करोड़ शहरी परिवार इस स्कीम के दायरे में आएंगे.

शुरुआत में करीब 50 करोड़ लोग आयुष्मान भारत योजनाका लाभ उठा सकेंगे. जन आरोग्य योजना का लाभ उठाने के लिए परिवार में सदस्यों की संख्या और उम्र की सीमा तय नहीं की गई है. यह स्कीम कैशलेश और पेपरलेस होगी.


आयुष्मान भारत योजना का मकसद गरीब, वंचित ग्रामीण परिवारों और शहरी श्रमिकों के परिवारों की चिन्हित कैटेगरी को हेल्थ बीमा का लाभ देना है. इसलिए 2011 की जनगणना को आधार पर 8.03 ग्रामीण परिवार और 2.33 करोड़ शहरी परिवार इस स्कीम के दायरे में आएंगे.

शुरुआत में करीब 50 करोड़ लोग आयुष्मान भारत योजनाका लाभ उठा सकेंगे. जन आरोग्य योजना का लाभ उठाने के लिए परिवार में सदस्यों की संख्या और उम्र की सीमा तय नहीं की गई है. यह स्कीम कैशलेश और पेपरलेस होगी.

इतिहास

राष्ट्रीय स्वास्थ्य सुरक्षा योजना (NHPS) योजना राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना, वरिष्ठ नागरिक स्वास्थ्य बीमा योजना (SCHIS), केंद्र सरकार स्वास्थ्य योजना (CGHS), कर्मचारियों की राज्य बीमा योजना (ESIS), आदि सहित कई योजनाओं का गठन करके बनाई गई है. राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति, 2017 ने हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर्स की भारत की स्वास्थ्य प्रणाली की नींव के रूप में कल्पना की है. जिसका उद्देश्य इस योजना को स्थापित करना है.

केंद्र सरकार की स्वास्थ्य योजना (CGHS) की शुरुआत 1954 में भारतीय सरकार के स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के तहत शुरू की गई थी, जिसका उद्देश्य केंद्र सरकार के कर्मचारियों, पेंशनरों और उनके आश्रितों को सीजीएचएस कवर किए गए शहरों में व्यापक चिकित्सा देखभाल सुविधाएं प्रदान करना था.

यह स्वास्थ्य योजना अब भुवनेश्वर, भोपाल, चंडीगढ़ और बैंगलोर जैसे शहरों के साथ चल रही है. औषधी योजना की रीढ़ है. विशेषज्ञों और चिकित्सा अधिकारियों के मार्गदर्शन के लिए समय-समय पर इन विभिन्न मामलों पर निर्देश जारी किए गए हैं. केंद्र सरकार स्वास्थ्य योजना एलोपैथिक और होम्योपैथिक प्रणालियों के साथ-साथ आयुर्वेद, यूनानी, प्राकृतिक चिकित्सा, योग और सिद्ध जैसे पारंपरिक भारतीय रूपों के माध्यम से स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करती है.