हिमाचल पुलिस भर्ती मामले में दोषी नहीं बख्शे जाएंगे : जय राम ठाकुर

हिमाचल पुलिस भर्ती मामले में दोषी नहीं बख्शे जाएंगे : जय राम ठाकुर-Panchayat Times
फाइल फोटो :जय राम ठाकुर

शिमला. मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने कहा है कि हिमाचल पुलिस भर्ती की लिखित परीक्षा में गड़बड़झड़ाले के मामले की जांच का जिम्मा एसआईटी को सौंप दिया गया है और किसी भी दोषी को बख्शा नहीं जाएगा. उन्होंने कहा कि पुलिस भर्ती परीक्षा में कुछ बाहरी लोगों के परीक्षा केन्द्र के आसपास व परीक्षा केन्द्र के अन्दर किसी अन्य नाम से परीक्षा देते हुए पकड़े जाने की जांच के लिए उपमण्डलाधिकारी पालमपुर के नेतृत्व में एसआईटी का गठन किया गया है. परीक्षा को तुरन्त रद्द कर दिया गया है ताकि प्रदेश के युवाओं के भविष्य के साथ खिलवाड़ न हो. यह जानकारी मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने सोमवार को शिमला में मीडिया से अनौपचारिक बातचीत में दी.

शिमला: बेकाबू ट्रक ने दो कारों को मारी टक्कर

मुख्यमंत्री ने कहा कि लिखित परीक्षा से पहले ही कांगड़ा जिले में विशेष गुप्त सूचना मिली थी कि प्रदेश के बाहर के राज्यों के कुछ लोग अन्य लोगों के स्थान पर लिखित परीक्षा देने की योजना बना रहे हैं, जिसके आधार पर परीक्षा शुरू होने से पूर्व ही तीन व्यक्तियों को पुलिस कि ओर से गिरफ्तार किया गया. दो अन्यों को परीक्षा केन्द्र से गिरफ्तार किया गया. उन्होंने कहा कि इसी दौरान परीक्षा केन्द्र के आसपास संदिग्ध हालत में घूमती एक हरियाणा नम्बर की गाड़ी को पकड़ा गया है, जिसमें नकल करने के उपकरण से लगी तीन बनियानें बरामद की गई और ज्वाली क्षेत्र में मुख्य सरगना के घर से पुलिस ने 11 लाख रुपये भी बरामद किए हैं. अब तक कुल 13 व्यक्तियों को गिरफ्तार किया है, जिसमें से तीन हिमाचल प्रदेश के तथा 10 बाहरी राज्यों से है.

मुख्यमंत्री ने कहा कि पुलिस विभाग को निर्देश दिए गए हैं कि वे प्रतियोगी परीक्षा के लिए अपनाई जाने वाली बेहतर प्रणाली का प्रयोग करें और इसी आधार पर पुलिस भर्ती के लिए दोबारा लिखित परीक्षा का आयोजन करें, जिसके लिए उम्मीदवारों को कोई अतिरिक्त फीस नहीं देनी होगी. उन्होंने यह भी कहा कि सरकार यह भी सुनिश्चित करेगी कि आने वाले समय में ऐसी घटना की पुनरावृत्ति न हो.