क्रांति देवी एक महिला जिसने बदला खेती करने का तरीका और बदल गई जिदंगी, मिला राष्ट्रीय स्तर का पुरस्कार

गुमला. जिले की महिला कृषक क्रांति देवी को कृषि के क्षेत्र में ‘क्रांति’ लाने के लिए राष्ट्रीय स्तर के कृषि कर्मण पुरस्कार से नवाजा गया है. आम तौर पर पुरुषों का क्षेत्र माने जाने वाले कृषि क्षेत्र में घाघरा प्रखंड की रहने वाली क्रांति ने प्रवेश क्या किया, कृषि क्षेत्र में ही ‘क्रांति’ ला दी.

गुमला जिले के घाघरा प्रखंड के बदरी पंचायत के कोतरी गांव की महिला कृषक क्रांति देवी ने प्रारंभ में अपनी माली हालत में सुधार लाने के लिए घर की चौखट लांघने का काम किया था, और लोक लज्जा के घेरे को तोड़ खेतों में उतरी थी. उसे क्या पता था यही काम उन्हें राष्ट्रीय स्तर पर प्रसिद्धि देगा.

साहस का परिचय देकर उतरी खेतों में

साहस का परिचय देकर खेतों में उतरी क्रांति आज कृषि के क्षेत्र में जाना पहचाना नाम बन गई हैं. आज स्थिति है कि क्रांति अब पुरुषों को भी बेहतर कृषि का पाठ पढ़ाने का काम कर रही हैं. क्रांति देवी मात्र आठवीं पास हैं परंतु उन्होंने किसान का क्षेत्र चुना और अपने पति वीरेंद्र उरांव के साथ श्री विधि से धान की खेती कर असाधारण उत्पादन प्राप्त की.

क्रांति देवी बताती हैं, “मेरे पास कृषि योग्य कुल दो एकड़ तीस डिसमिल भूमि उपलब्ध है, जिससे मेरे परिवार का जीवन यापन चल रहा है. खेती के साथ-साथ पशुपालन का भी कार्य करती हूं, जो आजीविका का एक प्रमुख साधन है एवं इसके कम्पोस्ट का उपयोग कर अपने खेतों को कृत्रिम उर्वरक एवं कीटनाशकों से बचाव करती हैं.”

क्रांति देवी एक महिला जिसने बदला खेती करने का तरीका, मिला राष्ट्रीय स्तर का पुरस्कार - Panchayat Times

क्रांति देवी को तीन जनवरी को बेंगलुरू में आयोजित कार्यक्रम में कृषि कर्मण पुरस्कार से सम्मानित किया गया है.

क्रांति देवी की शादी वीरेंद्र उरांव के साथ हुई थी और ससुराल में आने के बाद घर की माली हालत देखकर क्रांति ने किसान बनने की ठानी. क्रांति बताती हैं कि पहले खरीफ के मौसम में वे धान की खेती परंपरागत तरीके से देसी प्रजाति के बीज से करती थी एवं रबी के मौसम में सब्जी की खेती करते थे. इससे उत्पादन बहुत ही कम होता था, क्योंकि खेती करने की आधुनिक तकनीक की जानकारी तब प्राप्त नहीं थी. उन्होंने उत्पादन बढ़ाने के लिए काफी प्रयास किए, लेकिन सफल नहीं हुई.

इसके बाद उन्होंने स्वयंसेवी संस्था (NGO) विकास भारती में कृषि का प्रशिक्षण पाया और खेती करना आरंभ किया, जिसके बाद खेती में क्रांति की भाग्य चमक गई.

वे कहती हैं कि कोतरी गांव में राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन के अंतर्गत धान संकुल प्रत्यक्षण के अंर्तगत वित्तीय वर्ष 2016-17 में 52 महिला कृषकों को धान की वैज्ञानिक तरीके से खेती का प्रशिक्षण देते हुए बीज का वितरण किया गया. उसी समय क्रांति ने इस बात को गांठ बांध ली और तब से इस क्षेत्र में नए प्रयोग करना शुरू कर दिया.

वे कहती हैं कि उस क्रम में बिचड़ा तैयार करने के लिए भी तकनीकी जानकारी एवं प्रशिक्षण दिया गया. मिट्टी जांचोपरांत उसका उपचार करवाया गया, जिसके कारण किसी भी प्रकार की कोई बीमारी एवं कीट का प्रकोप बिचड़े की नर्सरी में नहीं देखा गया.

महिलाओं को भी कृषि के क्षेत्र कर रही हैं प्रेरित

क्रांति कहती हैं कि जहां पहले परंपरागत खेती से औसतन 40 क्विंटल प्रति हेक्टेयर उत्पादन होता था, वहीं अब औसतन 70 क्विंटल प्रति हेक्टेयर उत्पादन पाया गया, जिसके कारण प्रति हेक्टेयर 30,000 रुपये की अतिरिक्त आमदनी हुई. उन्हें इस कारण परिवार का भरण-पोषण करने में बहुत मदद मिली. कृषि कर्मण पुरस्कार पाने के बाद खुश क्रांति आज कई महिलाओं को भी कृषि के क्षेत्र के लिए प्रेरित कर रही हैं.

गुमला के जिला कृषि पदाधिकारी रमेश चंद्र सिन्हा कहते हैं कि उत्तम खेती की प्रतिस्पर्धा में महिलाएं सम्मान भी पाने लगी हैं. स्थानीय स्तर पर महिलाएं प्रशिक्षण पाती हैं और वहां सीखी गई बातों को अपने खेतों पर उतारने का काम करती है, जिसका नतीजा यह है कि बड़ी संख्या में महिलाएं सफल किसान के रूप में उभरने लगी हैं.

गुमला के जिला सूचना जनसम्पर्क पदाधिकारी डी एन भादुड़ी ने बताया कि यह गुमला ज़िले में आ रहे परिवर्तन का एक रूप है. क्रांति की इस सफलता से ज़िले और राज्य की अन्य महिलाओं को भी कुछ नया करने की प्रेरणा मिलेगी