हिमाचल में इस लेडी आईपीएस की चर्चा खूब है

शिमला. हिमाचल में स्कूल-कॉलेज जाने वाली लड़कियों को छेड़छाड़ से बचाने के लिए आईपीएम सौम्या सांबशिवन आजकल चर्चा में हैं. छेड़छाड़ से बचाने के लिए सौम्या लड़कियों को खास तरह का स्प्रे बनाने की ट्रेनिंग देती हैं. मिर्च, रिफाइंड और नेल पेंट से बना यह स्प्रे मनचलों को सबक सिखाने के लिए काफी है. बताते चलें कि सौम्या सांबशिवन को एक दबंग कॉप के रूप में जाना जाता है. इस आईपीएस की गिनती हिमाचल के निडर अफसरों में होती है.

ये भी पढ़ें- कसौली गोलीकांड: नाले में छुपा था हत्यारा, पुलिस ने बताई घटना की पूरी कहानी

हिमाचल में ड्रग्स, शराब और मानव तस्करी के बढ़ते मामलों पर लगाम लगाने का श्रेय बहुत हद तक इन्हीं महिला अफसर को जाता है. एसपी सिरमौर रहते हुए उन्होंने ब्लाइंड मर्डर के कई मामलों को भी बखूबी सुलझाया. खूंखार अपराधियों को पकड़ने के मामले में भी सौम्या आगे रही हैं. उनकी इस कार्यशैली का समूचा हिमाचल कायल है. 2010 बैच की आईपीएस सौम्या सांबशिवन मूल रूप से केरल की रहने वाली हैं. वह अपने माता-पिता की इकलौती बेटी हैं. इनके पिता इंजीनियर थे.

सौम्या सांबशिवन बायॉलजी में ग्रैजुएशन करने के बाद एमबीएम फाइनैंस कर चुकी हैं. इसके बाद एक मल्टीनेशनल बैंक में भी काम किया. उनकी इच्छा थी लेखिका बनने की मगर बीच में उन्होंने सिविल सर्विसेज के एग्जाम दिए और IPS अधिकारी बन गईं. सौम्या सांबशिवन की एक बड़ी उपलब्धि यह भी है कि वह हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला में 72 साल बाद पहली महिला एसपी बनने का रिकॉर्ड अपने नाम किया था.