लोकसभा चुनाव : पांच साल में बढे़ 55 हजार मतदाता

झारखंड : विधानसभा चुनाव को लेकर विपक्षी फिर महागठबंधन बनाने की तैयारी में जुटे-Panchayat Times
प्रतीक चित्र

हिसार. साल 2019 के लोकसभा चुनावों का बिगुल बज चुका है. मेवात में साल 2019 के लोकसभा चुनावों में पिछली बार की अपेक्षा 55 हजार 824 वोटों का इजाफा हो चुका है. जिसकी वजह से 170 नए मतदान केंद्रों की संख्या बढ़ाई गई हैं. जिले में साल 2014 के चुनावों में मतदाताओं की संख्या 4 लाख 75 हजार 781 थी. जो अब बढ़कर 5 लाख 31 हजार 605 हो गई है.

वहीं मतदान केंद्रों की संख्या पिछले चुनावों में 458 थी. जिसे इस बार बढ़ा कर 627 कर दिया गया है. ग्रामीण क्षेत्रों में अधिक मतदान केंद्र बनाए गए हैं. जिले में तीन विधानसभा सीटों के लिए चुनाव होने हैं. जिला निर्वाचन अधिकारी एवं डीसी नूंह पंकज ने मंगलवार को चुनावों को लेकर प्रशासनिक तैयारियों की जानकारी दी. उन्होंने बताया कि इस बार जिले में 2 लाख 44 हजार 466 महिला मतदाता और 2 लाख 87 हजार 139 पुरुष मतदाता है. नूंह विधानसभा क्षेत्र में 191 मतदान केंद्रों पर 1 लाख 64 हजार 435 मतदाता हैं. जबकि फिरोजपुर-झिरका विधानसभा में 242 मतदान केंद्र है, जिन पर 2 लाख 478 मतदाता हैं. वहीं पुन्हाना विधानसभा क्षेत्र में 194 मतदान केंद्र हैं. जिसमें 1 लाख 66 हजार 692 मतदाता हैं. नूंह विधानसभा क्षेत्र में 180 मतदान केंद्र ग्रामीण क्षेत्र में और 11 शहरी क्षेत्रों में हैं. फिरह्वोजपुर झिरका विधानसभा क्षेत्र में 222 मतदान केंद्र ग्रामीण क्षेत्र में और 20 शहरी क्षेत्र में हैं. जबकि पुन्हाना विधानसभा क्षेत्र में 178 मतदान केंद्र ग्रामीण क्षेत्र में तथा 16 शहरी क्षेत्र में हैं. तीनों विधानसभा क्षेत्रों में 86 मतदान केंद्र संवेदनशील तथा 122 मतदान केंद्र अतिसंवेदनशील के रूप में पहचान की गई है.

100 मिनट में होगी कार्रवाई

आचार संहिता और चुनाव के दौरान किसी भी प्रकार की शिकायत पर 100 मिनट में कार्रवाई की जाएगी. डीसी नूंह के मुताबिक सीवीजिल ऐप के माध्यम से आने वाली शिकायतों की जांच उडनदस्ते की टीमें करेंगी.सीवीजिल एक मोबाइल एप है, जिसके माध्यम से कोई भी व्यक्ति आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन की फोटो व वीडियो सीधा कंट्रोल रूम में भेज सकता है. सीविजिल ऐप के माध्यम से भेजी गई शिकायत को कंट्रोल रूम पांच मिनट में संबंधित क्षेत्र के उडऩदस्ते को भेजेगा. उसके बाद संबंधित क्षेत्र का उडऩदस्ता आगामी 15 मिनट में शिकायत किए गए स्थान पर जाकर जांच करेगा.  30 मिनट में शिकायत की विडियोग्राफी व फोटोग्राफी सहित जांच करके इसी ऐप के माध्यम से कंट्रोल रूम को अपनी रिपोर्ट देगा. उसके बाद संबंधित रिटर्निंग अधिकारी आगामी 50 मिनट में आगामी कार्रवाई पूरी करेंगे.