लोकसभा चुनाव : बैंक के लेन-देन पर रहेगी कड़ी नजर

होटल कारोबारी ने अपने बैंक खातों से 33 लाख रुपए की अवैध रूप से धन निकासी
प्रतीक चित्र

धर्मशाला. लोकसभा चुनाव के दृष्टिगत जिला के सभी बैंकों के अधिकारियों को वीरवार को चुनाव आचार संहिता के दौरान बैंक खातों में लेन देन की मॉनिटरिंग सुनिश्चित करने का प्रशिक्षण दिया गया. इस अवसर पर अतिरिक्त उपायुक्त राघव शर्मा ने बताया कि किसी भी खाते में एक लाख रुपए से ऊपर की जमा निकासी के बारे में पूरी छानबीन की जानी जरूरी है, इसके साथ ही आरटीजीएस के माध्यम से एक खाते से मल्टीपल एकाउंट्स में पैसे स्थानंतरित होने पर भी नजर रखी जानी चाहिए. इसकी प्रतिदिन रिपोर्ट व्यय निगरानी समिति को दी जानी जरूरी है.

उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग के निर्देशानुसार प्रत्याशी को नामांकन के दौरान अपने चुनावी बैंक अकाउंट भी अलग से खुलवाना पड़ेगा. उस बैंक एकाउंट में लेन देन की भी समीक्षा की जाएगी. उन्होंने बताया कि बैंक खातों में दस लाख से ऊपर की राशि निकालने या जमा करवाने की सूचना आयकर विभाग के नोडल आफिसर को दी जानी जरूरी है. अतिरिक्त उपायुक्त ने कहा कि लोकसभा चुनाव में प्रत्याशियों तथा पार्टियों के खर्च पर नजर रखने के लिए विभिन्न स्तरों पर कमेटियां भी गठित की गई हैं. लोकसभा प्रत्याशी को चुनाव प्रचार के लिए चुनाव आयोग कि ओर से 70 लाख की राशि व्यय करने का प्रावधान रखा गया है. इस निर्धारित व्यय सीमा पर नजर रखने के लिए व्यय निगरानी समिति का गठन किया गया है जो कि प्रतिदिन रिपोर्ट चुनाव आयोग को प्रेषित करता है. सभी बैंकों के अधिकारी अपने अपने बैंकों में प्रतिदिन की रिपोर्ट प्रेषित करने के नोडल अधिकारी भी तैनात कर लें ताकि निष्पक्ष तौर चुनावी प्रक्रिया संपन्न हो सके.