नए साल में 16 लाख लोगों को मिलेगा एलपीजी कनेक्शन

रांची. झारखंड सरकार राज्य के हर गरीब परिवार तक एलपीजी कनेक्शन पहुंचाने का लक्ष्य समय से पहले पूरा कर लेगी. वर्ष 2018 में 15-16 लाख गरीब परिवारों तक एलपीजी की सुविधा उपलब्ध कराने का लक्ष्य रखा गया है. साथ ही पहली रिफिल और चुल्हा भी दिया जायेगा. उक्त बातें मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहीं. वे रेडिशन ब्लू में आयोजित एलपीजी कैटालिस्ट ऑफ सोशल चेंज कांफ्रेंस के उद्घाटन के बाद लोगों को संबोधित कर रहे थे.

उन्होंने कहा कि स्वच्छ ईंधन देने की दिशा में राज्य सरकार पेट्रोलियम मंत्रालय के साथ कदम से कदम मिलाकर चल रही है. मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के संपन्न लोगों से एलपीजी सब्सिडी छोड़ने की अपील की थी. 2.5 करोड़ लोगों ने सब्सिडी छोड़ दी. इसका लाभ गरीब परिवारों को मिल रहा है. अभी और लोगों को सब्सिडी छोड़ने की जरूरत है.

उन्होंने कहा., “मैं लोगों से अपील करता हूं कि एलपीजी सब्सिडी छोड़ने के लिए जागरुकता फैलायें. इससे और गरीबों तक एलपीजी कनेक्शन का लाभ मिल सकेगा. ”

कोल मिथेन गैस उत्पादन की काफी संभावना

मुख्यमंत्री ने कहा कि झारखंड में कोयले की अधिकता है. यहां कोल मिथेन गैस उत्पादन की काफी संभावना है. पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने झारखंड में इसकी शुरुआत कर दी है. कोल मिथेन गैस के माध्यम से झारखंड पूरी दुनिया में अपनी अलग पहचान बना सकता है.

नि:शुल्क एलपीजी कनेक्शन का लक्ष्य पांच करोड़ से बढ़ाकर आठ करोड़

केंद्रीय पेट्रोलियम, प्राकृतिक गैस एवं कौशल विकास व उद्यमिता मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि एलपीजी कनेक्शन देने के मामले में झारखंड ने काफी अच्छा काम किया है. झारखण्ड देश का पहला राज्य है जहां एलपीजी कनेक्शन के साथ चुल्हा और पहली रिफिल फ्री दी जा रही है. पिछड़ा राज्य होने के बाद भी उज्जवला योजना से जुड़े यहां के गरीब परिवार सालाना औसतन तीन रिफिल करवा रहे हैं. यह बहुत बड़ी उपलब्धि है. उज्जवला योजना की सफलता को देखते हुए इस साल केंद्र सरकार ने नि:शुल्क एलपीजी कनेक्शन का लक्ष्य पांच करोड़ से बढ़ाकर आठ करोड़ कर दिया गया है. मार्च 2020 तक इस लक्ष्य को हासिल कर लिया जायेगा. अब तक 3.40 करोड़ परिवारों तक इसे पहुंचा दिया गया है.

पाइपलाइन से एलपीजी गैस पहुंचेगा

उन्होंने कहा कि झारखंड के रांची, जमशेदपुर, धनबाद और बोकारो में स्वच्छ ईंधन पहुंचाने के उद्देश्य से जल्द ही पाइपलाइन के माध्यम से एलपीजी गैस उपलब्ध कराने की शुरुआत की जायेगी. कोल मिथेन गैस से राज्य के घरेलू उपभोक्ताओं के साथ उद्योगों व परिवहन उद्योग को भी लाभ होगा.

कार्यक्रम में सांसद जगदंबिका पाल, महेश पोद्दार, राज्य 20 सूत्री उपाध्यक्ष राकेश प्रसाद, पेट्रोलियम मंत्रालय के संयुक्त सचिव आशुतोष जिंदल, यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया के प्रोफेसर के आर स्मिथ, हिन्दुस्तान पेट्रोलियम के सीएमडी एमके सुराना, इंडिया ऑयल के चेयरमैन संजीव सिंह, बीपीसीएल के निदेशक मार्केटिंग, आरडीआइ के सीइओ मीता प्रियदर्शिनी, पर्यावरणविद डॉ सुनीता नारायणन मौजूद रहे.

कॉमेंट करें

अपनी टिप्पणी यहाँ लिखें
अपना नाम यहाँ लिखें