मलेशिया में फंसे मजदूरों ने लगाई सरकार से वतन वापसी की गुहार

झरिया(धनबाद). मलेशिया में फंसे झारखंड के मजदूरों ने सरकार से वतन वापसी की गुहार लगाई है. व्हाट्स एप्प के प्रवासी ग्रुप में मैसेज भेजकर इन प्रवासी मजदूरों ने अपने हालात बयान किए हैं. गिरिडीह, बोकारो और हजारीबाग से बेहतर जिंदगी के लालच में विदेश गए मजदूरों का कहना है कि उनसे 25 हजार रुपए प्रतिमाह देने का वादा किया गया था लेकिन उन्हें केवल आठ हजार रुपए ही प्रति महीने की मजदूरी मिल पा रही है.

वाट्सएप्प पर बनाए गए ग्रुप प्रवासी ग्रुप के एडमिन सिकंदर अली के मुताबिक गिरिडीह जिले के बगोदर थाना अंतर्गत चिचाकी के जीवलाल महतो, कसियाडीह के शिबू महतो, चेतलाल महतो, बोकारो जिला के नावाडीह थाना अंतर्गत पोसटे के जागेश्वर महतो, हजारीबाग जिले के विष्णुगढ़ के छोटकी भेलवारा निवासी दिलेश्वर महतो, गांगो महतो, देवचंद महतो, महतोइया के जीवाधन महतो, गोविंदपुर के भुनेश्वर महतो, ठाकुर नरकी के धनपत महतो मलेशिया में फंसे हुए हैं.

उन्होंने कहा, “सभी को काफी कम मजदूरी दी जा रही है. सभी विजिट वीजा पर मलेशिया गए हैं, लेकिन वीजा की अवधि अब समाप्त हो गई है, जिस कारण वे सब वहां अवैध तरीके से रहने को विवश हैं.”

इधर विष्णुगढ़ के हीरामन महतो को मिले व्हाट्स एप्प मैसेज के मुताबिक वीजा खत्म होने के बाद मजदूरों को एक कमरे में कैद करके रखा गया है.