मॉरीशस के कार्यवाहक राष्ट्रपति ने कहा हम भी करते हैं गंगा स्नान

करनाल. मॉरीशस के कार्यवाहक राष्ट्रपति प्रामाशिव्यम पिल्लै वयापरे ने कहा...

करनाल. मॉरीशस के कार्यवाहक राष्ट्रपति प्रामाशिव्यम पिल्लै वयापरे ने कहा है कि भारत और मॉरीशस की संस्कृति एक है. भारतीय संस्कृति के अनुसार ही मॉरीशस में भी राम नवमी, श्रीकृष्ण जन्माष्टमी और दीपावली जैसे मुख्य त्योहार मनाए जाते हैं. यहां तक की गंगा स्नान और तुलसी के पौधे का भी घर में विशेष महत्व है. यह भी कहा जा सकता है कि मॉरीशस के अन्दर ‘भारत’ बसता है.

राष्ट्रपति वयापरे शुक्रवार को महाराजा दानवीर कर्ण की नगर में गीता मनीषी महामंडलेश्वर स्वामी ज्ञानानंद महाराज के अनुरोध पर श्रीकृष्ण गोशाला का भ्रमण करने के लिए आए हुए थे. इस अवसर पर राष्ट्रपति ने मंत्रोच्चार के बीच गौ पूजा और गायों की परिक्रमा करने के साथ उन्हें हरा चारा भी डाला. उन्होंने उपस्थित नागरिकों को संबोधित करते हुए कहा कि श्रीकृष्ण गऊशाला में गऊओं के संरक्षण की व्यवस्था को देखकर उन्हें बेहद खुशी हुई. ऐसी व्यवस्था मॉरीशस में भी कराएंगे क्योंकि हिन्दू धर्म में गऊ को माता माना जाता है, गोवंश का संरक्षण करना मानवता का धर्म है.

उन्होंने कहा कि जब भगवान श्रीकृष्ण बांसुरी बजाते थे, उस समय उनकी बांसुरी की आवाज सुनकर भक्तों के साथ गायें भी दौड़ी आती थीं. उन्होंने कहा कि हरियाणा की ऐतिहासिक, पौराणिक व धार्मिक पावन नगरी कुरुक्षेत्र में गीता जयंती महोत्सव का कार्यक्रम चल रहा है, जिसे देखकर उन्हें बेहद प्रसन्नता हुई. इसी कार्यक्रम की तर्ज पर अगले वर्ष 12 फरवरी से 17 फरवरी को मॉरीशस में भी गीता जयंती महोत्सव मनाया जाएगा.

ये भी पढ़ें- मॉरीशस के राष्ट्रपति की मौजूदगी में अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव शुरू

इस कार्यक्रम में भी गीता मनीषी स्वामी ज्ञानानंद महाराज, हरियाणा के राज्यपाल सत्यदेव नारायण आर्य, मुख्यमंत्री मनोहर लाल को विशेष तौर से आमंत्रित किया गया है. उन्होंने कुरुक्षेत्र व करनाल के लोगों को भी मॉरीशस आने का निमंत्रण दिया. मॉरीशस के राष्ट्रपति ने कहा कि श्रीकृष्ण ने मोहग्रस्त अर्जुन को गीता का उपदेश देकर समस्त मानव जाति का उद्धार किया है. गीता में लिखा है कि ‘कर्म करते जा, फल की इच्छा मत कर ऐ इंसान’, गीता ज्ञान आज भी प्रसांगिक है.

स्वामी ज्ञानानंद महाराज ने कहा कि इस वर्ष अंतरराष्ट्रीय गीता जयंती महोत्सव में मॉरीशस भी भागीदार है. इतना ही नहीं देश के राज्यों में गुजरात को भी पार्टनर बनाया गया है. उन्होंने कहा कि मुझे यह बताते हुए बहुत खुशी हो रही है कि गीता जयंती महोत्सव के उद्घाटन के अवसर पर मॉरीशस के राष्ट्रपति ने मॉरीशस में भी अगले वर्ष गीता जयंती मनाने की घोषणा की है. नि:संदेह विश्वभर में गीता ज्ञान का प्रचार-प्रसार बढ़ने की ओर एक कारगर कदम है.

इस अवसर पर मॉरीशस के उच्चायुक्त जगदीशेश्वर गौवर्धन, पूर्व संसदीय सचिव कल्याणी जग्गू, श्रम कल्याण बोर्ड के सदस्य सतीश गुप्ता, उपलाना गोशाला के संचालक गोपाल स्वामी, श्रीकृष्ण गोशाला प्रंबंधन समिति के प्रधान सुरेश गुप्ता और नरेश गुप्ता सहित शहर के गणमान्य व्यक्ति उपस्थित रहे.